google-site-verification=dCpXFYL0M_Z835WKryUkqtFobns-FEoO78FXyXmp1Pk google-site-verification=dCpXFYL0M_Z835WKryUkqtFobns-FEoO78FXyXmp1Pk
 

एक्सपर्ट्स के द्वारा बतायी गयी ऑप्शंस स्ट्रेटेजीज




शेयर मार्केट (Stock Market) कभी नहीं रुकता । ऑप्शंस मार्केट एक रोमांचक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म है क्योंकि इसमें भारी लाभ की संभावना है। यह ट्रेडर पर निर्भर करता है कि वह नुकसान से बचने के लिए कोनसी रणनीति का विश्लेषण और चयन करता है। ट्रेडर्स अक्सर उपलब्ध विभिन्न रणनीतियों को समझे बिना ऑप्शंस ट्रेड करने का प्रयास करते हैं और ये सभी मौलिक (Fundamental) ऑप्शंस यानी की कॉल और पुट पर आधारित होते हैं। ये मूल बातें निवेशकों के लिए कई प्रकार की रणनीतियाँ बनाने का आधार हैं जो स्टॉक की गति से भुगतान को अधिकतम करती हैं और जानकार निवेशक उस रणनीति को चुनते हैं जो स्टॉक के प्रदर्शन के लिए सबसे अच्छी है। ऑप्शंस की रणनीतियाँ (Options Strategies) व्यापारियों को उनकी पूंजी का प्रभावी उपयोग करने में मदद करती हैं।


व्यापारी ऑप्शंस की रणनीतियों का उपयोग क्यों करते हैं?

ऑप्शंस की रणनीतियाँ (Options Strategies) व्यापारियों को एक या एक से अधिक ऑप्शंस में से एक साथ खरीद और बिक्री (Buy and Sell) पोजीशन लेकर नुकसान से बचाने में मदद कर सकती हैं। ऑप्शंस की रणनीतियाँ (Options Strategies) व्यापारियों को बाजार के व्यवहार (जैसे की बुलिश, बेयरिश और न्यूट्रल) के आधार पर सिक्युरिटी की कीमतों में उतार-चढ़ाव से लाभ उत्पन्न करने की अनुमति देती हैं।


ऑप्शंस की रणनीतियाँ (Options Strategies)

ऑप्शंस व्यापारियों के लिए रणनीतियों की एक विस्तृत श्रृंखला उपलब्ध है। बाजार की स्थितियों के अनुसार रणनीति अलग-अलग होती है। बाजार बेयरिश (bearish), बुलिश (Bullish), रेंज-बाउंड (Range Bound) और न्यूट्रल (Neutral) हो सकता है। इसलिए हर एक रणनीति बाजार की स्थिति के अनुसार अलग अलग होती है। ये न केवल जोखिम को सीमित करते हैं बल्कि प्रभावी रूप से अधिकतम रिटर्न भी देते हैं। हम यहां सफल व्यापारियों के बीच पांच सबसे लोकप्रिय और उपयोगी रणनीतियों पर चर्चा करेंगे।


कवर्ड कॉल ( Covered CALL)

कवर कॉल ऑप्शन की एक रणनीति है जिसमें अंडरलाइंग स्टॉक और डेरीवेटिव कॉन्ट्रैक्ट दोनों में ट्रेड शामिल हैं। यह रणनीति आपको उन सिक्युरिटीज पर अतिरिक्त उत्पन्न अर्जित करने में मदद करती है जो आपके पास पहले से ही नकद बाजार (Cash Market) में हैं। व्यापारी एक अंतर्निहित संपत्ति (Underlying Asset) खरीदता है और उस सिक्युरिटी को बेचे बिना उस पर लाभ अर्जित करने के लिए सिक्युरिटी को बनाए रखने की योजना बनाता है। वह उसी स्टॉक के लिए कॉल का कॉन्ट्रैक्ट बेच सकता है और ऑप्शंस प्रीमियम एकत्र करके उस सिक्युरिटी पर उत्पन्न अर्जित कर सकता है।


कवर्ड कॉल ट्रेड कैसे बनाते हैं?

आप नकद बाजार में स्टॉक खरीदते हैं और आगे १०० शेयरों में ऑप्शंस मार्केट में कॉल कॉन्ट्रैक्ट बेचते हैं। आपको नकद बाजार में खरीदे गए सभी शेयरों के लिए कॉल कॉन्ट्रैक्ट बेचने की आवश्यकता नहीं है।


एक कवर की गई कॉल जो बेची जाती है वह आम तौर पर आउट ऑफ़ द मनी (OTM) होती है। आउट ऑफ़ द मनी मतलन अंडरलाइंग एसेट की कीमत ऑप्शन के स्ट्राइक मूल्य से नीचे होती है। ओटीएम कॉल में, आप कॉन्ट्रैक्ट के स्टॉक और बिक्री दोनों पर लाभ कमा सकते हैं क्योंकि आप कॉन्ट्रैक्ट का प्रयोग न करके अपने स्टॉक की स्थिति को बनाए रखते हैं और कॉल ऑप्शन बेचकर प्रीमियम भी जमा करते हैं।


यदि आपको लगता है कि स्टॉक की कीमत गिरने वाली है, लेकिन आप अभी भी अपने स्टॉक की स्थिति को बनाए रखना चाहते हैं, तो आप इन द मनी (ITM) कॉल ऑप्शन को बेच सकते हैं, जहां अंडरलाइंग एसेट का स्ट्राइक मूल्य बाजार मूल्य से कम है। आईटीएम कॉल ऑप्शन बेचते समय, आपको अपने कॉल ऑप्शन के ख़रीददार से अधिक प्रीमियम प्राप्त होगा। फिर आप कॉन्ट्रैक्ट को समाप्त होने दे सकते हैं या ऑप्शन का प्रयोग कर सकते हैं, जो आपके निवेश लक्ष्य के लिए सबसे अच्छा है।


यदि आप कॉलों को बेचकर अतिरिक्त लाभ कमाते हुए स्टॉक बेचना चाहते हैं, तो आप चाहते हैं कि स्टॉक स्ट्राइक मूल्य से ऊपर उठे और समाप्ति पर वहीं रहे। इस तरह, कॉल असाइन किए जाएंगे। जब कॉल को पहली बार बेचा जाता है, तो संभावित लाभ स्ट्राइक मूल्य घटाकर वर्तमान स्टॉक मूल्य और कॉल को बेचने के लिए प्राप्त प्रीमियम तक सीमित होता है। जबकि, अधिकतम नुकसान तब हो सकता है जब कीमतों में तेजी से वृद्धि हो, आप उन लाभों से चूक सकते हैं।


महत्वपूर्ण सलाह

कवर्ड कॉल्स अपने स्टॉक से अतिरिक्त आय उत्पन्न करने का एक शानदार तरीका है और सभी कौशल स्तरों वाले निवेशकों के लिए उपयुक्त है।


बुल कॉल स्प्रेड (Bull CALL Spread)

बुल कॉल स्प्रेड में कम स्ट्राइक मूल्य के साथ एक लॉन्ग कॉल और एक उच्च स्ट्राइक मूल्य के साथ एक शॉर्ट कॉल होती है, दोनों एक ही समय में समाप्त हो जाती हैं। शॉर्ट कॉल का स्ट्राइक प्राइस लॉन्ग कॉल की स्ट्राइक से अधिक होता है, इसलिए इस रणनीति के लिए हमेशा निवेशक को ट्रेड के लिए भुगतान करना होगा।


शॉर्ट कॉल का प्राथमिक उद्देश्य लॉन्ग कॉल की अग्रिम लागत का भुगतान करने में मदद करना है। बुल कॉल स्प्रेड में अधिकतम लाभ की गणना दो स्ट्राइक कीमतों के बीच के अंतर को घटाकर भुगतान किए गए प्रीमियम से की जाती है। यह अधिकतम लाभ तब प्राप्त होता है जब स्टॉक की कीमत समाप्ति पर शॉर्ट कॉल के स्ट्राइक मूल्य पर या उससे ऊपर होती है।


अधिकतम हानि उतनी होती है जितना ट्रेड का मूल्य होता है। यह तब होता है जब स्टॉक समाप्ति पर निचले स्ट्राइक मूल्य से नीचे ट्रेड करता है।


ब्रेक ईवन

बुल कॉल स्प्रेड का ब्रेक ईवन = न्यूनतम स्ट्राइक मूल्य + ट्रेड की लागत

ब्रेक ईवन = लॉन्ग कॉल स्ट्राइक + नेट डेबिट भुगतान।


उदाहरण

७० रुपये की लागत वाले ५५०-६५० कॉल स्प्रेड में ५५०-स्ट्राइक प्राइस कॉल खरीदना और ६५० स्ट्राइक प्राइस कॉल को बेचना (६५०-५५०) शामिल है, जिसकी स्ट्राइक विड्थ १०० है और जो कि निवेशक को मिलनेवाला सबसे अधिक लभा होगा। इसमें से अगर ७० रूपये की लागत को कम करदे तो निवेशक को अंतिम लाभ ३० रूपये का होगा।


महत्वपूर्ण सलाह

यह एक ऐसी रणनीति नहीं है जिसका बहुत बार उपयोग किया जाना चाहिए जब तक कि मार्केट की अपेक्षित ऊपर की ओर गति का प्रमाण न हो। इसके बिना, उस ट्रेड के सफलता की काम संभावना है जो उच्च व्यापार करने के लिए स्टॉक पर निर्भर करता है।


बीयर पुट स्प्रेड (Bear PUT Spread)

बुल कॉल स्प्रेड में उच्च स्ट्राइक मूल्य के साथ एक लॉन्ग कॉल और कम स्ट्राइक मूल्य वाली एक शॉर्ट कॉल होती है, दोनों एक ही महीने में समाप्त हो जाती हैं। शॉर्ट स्ट्राइक प्राइस लॉन्ग पुट की स्ट्राइक से कम होता है, यही वजह है कि यह स्ट्रैटेजी निवेशक को ट्रेड के लिए भुगतान करने की मांग करती है। शॉर्ट पुट का प्राथमिक उद्देश्य लॉन्ग पुट की अग्रिम लागत (Upfront cost) का भुगतान करने में मदद करना है।


बीयर पुट स्प्रेड के अधिकतम लाभ की गणना दो स्ट्राइक कीमतों के बीच के अंतर को घटाकर प्रीमियम का भुगतान करके की जाती है। यह तब होता है जब एक्सपायरी पर स्ट्राइक निचले स्ट्राइक मूल्य से नीचे ट्रेड करती है।

अधिकतम हानि उतनी ही होती है जितनी व्यापार की लागत है। यह तब होता है जब स्टॉक एक्सपायरी पर ऊपरी स्ट्राइक मूल्य से ऊपर ट्रेड करता है।


ब्रेक - ईवन

बियर पुट स्प्रेड का ब्रेक ईवन = ऊपरी स्ट्राइक मूल्य - ट्रेड की लागत

ब्रेक ईवन = लॉन्ग पुट स्ट्राइक - डेबिट भुगतान


उदाहरण

७० रुपये की लागत वाले ४००-५०० बीयर पुट स्प्रेड में ५००-स्ट्राइक प्राइस कॉल खरीदना और ४०० स्ट्राइक प्राइस कॉल को बेचना, १०० रुपये कीविड्थ वाली स्ट्राइक (५००-४००) शामिल है। इसमें से अगर ७० रुपये की लगत को काम करदे तो निवेशक को ३० रुपये के लाभ होता है ।


महत्वपूर्ण सलाह

यह एक ऐसी रणनीति नहीं है जिसे हमेशा उपयोग में लाना चाहिए जब तक कि अपेक्षित गिरावट का सबूत न हो। इसके बिना, उन ट्रेडों के सफलता की कम संभावना है जो समाप्ति तिथि से पहले स्टॉक पर निर्भर करता है।


लॉन्ग स्ट्रैंगल (Long Strangle)

लॉन्ग स्ट्रैंगल (स्ट्रैंगल खरीदना) सीमित जोखिम और असीमित लाभ क्षमता के साथ एक तटस्थ ऑप्शन रणनीति है। इसमें कम स्ट्राइक प्राइस वाला एक लॉन्ग पुट ऑप्शन और ज्यादा स्ट्राइक प्राइस वाला एक कॉल ऑप्शन होता है। अत्यधिक अस्थिर बाजारों में इस रणनीति का सबसे अच्छा उपयोग किया जाता है जहां स्टॉक के अच्छे मूल्य पे जाने की उम्मीद होती है।


यदि स्टॉक में कारोबार होता है, तो निवेशक पुट ऑप्शन को बेकार में समाप्त होने दे सकता है और कॉल का प्रयोग कर सकता है।


यदि स्टॉक नीचे ट्रेड करता है, तो निवेशक कॉल को बेकार रूप से समाप्त होने देगा और पुट का प्रयोग करेगा। लाभ की संभावना असीमित है, जबकि जोखिम इस रणनीति में भुगतान किए गए शुद्ध प्रीमियम तक सीमित है।

इस ऑप्शंस ट्रेडिंग रणनीति में अस्थिर बाजार में नुकसान को कम करते हुए असीमित लाभ की संभावना है

लॉन्ग स्ट्रैंगल स्ट्रैटेजी के लिए अधिकतम लाभ असीमित है क्योंकि स्थिति आगे बढ़ना जारी रख सकती है और स्टॉक किसी भी दिशा में जा सकता है।


अधिकतम हानि (Maximum Loss) = नेट प्रीमियम भुगतान


ब्रेक - ईवन

एक स्ट्रैंगल में दो ब्रेक इवन पॉइंट्स होते है ।

लोअर ब्रेकईवन = पुट का स्ट्राइक मूल्य - नेट प्रीमियम

अपर ब्रेक ईवन = कॉल की स्ट्राइक प्राइस + नेट प्रीमियम


महत्वपूर्ण सलाह

लॉन्ग स्ट्रैंगल स्ट्रैटेजी अक्सर ऑप्शन ट्रेडिंग की दुनिया में दिखाई देती है और बाजार की अस्थिरता से लाभ पाने में इच्छुक व्यापारियों के लिए फायदेमंद हो सकती है। लॉन्ग स्ट्रैंगल वर्तमान समाचारों और घटनाओं के आधार पर बाजार की चाल के लिए एक उत्कृष्ट रणनीति है क्योंकि यह न्यूनतम जोखिम और असीमित लाभ क्षमता वाली कम लागत वाली रणनीति है।


उदाहरण

यदि स्टॉक ५०० रुपये पर कारोबार कर रहा है और कोई उम्मीद कर रहा है कि स्टॉक निकट भविष्य में या तो बढ़ेगा या घटेगा, तो एक निवेशक एक साथ ५५० रुपये की कॉल और ४५० रुपये की नेट प्रमियम के लिए ४० रुपये की खरीद कर सकता है। यदि समाप्ति पर स्टॉक ६५० रुपये तक बढ़ जाता है, तो ५५० रुपये की कॉल के परिणामस्वरूप ६० रुपये का लाभ होगा (कॉल की कीमत १०० रुपये - ४० रुपये प्रीमियम)। यदि स्टॉक समाप्त होने पर ३५० रुपये तक गिर जाता है, तो ४५० रुपये का पुट समान रूप से १०० रुपये का होगा, जिसके परिणामस्वरूप भुगतान किए गए प्रीमियम को घटाकर ६० रुपये कर दिया जाएगा। यदि स्टॉक दो स्ट्राइक कीमतों, ४५० रुपये और ५५० रुपये के बीच रहता है, तो व्यापारी अपने निवेश किए गए ४० रुपये के प्रीमियम को खो देगा।


शॉर्ट स्ट्रैंगल (Short Strangle)

एक शॉर्ट स्ट्रैंगल में एक ही अंडरलाइंग सिक्युरिटी ,स्ट्राइक प्राइस और समाप्ति तिथि में कॉल और पुट ऑप्शन बेचना शामिल है। शॉर्ट स्ट्रैंगल के साथ, अधिकतम लाभ तब प्राप्त होता है जब स्टॉक दो स्ट्राइक कीमतों की सीमा के भीतर रहता है।


शॉर्ट स्ट्रैंगल का अधिकतम लाभ प्राप्त कुल प्रीमियम तक सीमित है। यह रणनीति सबसे अच्छा काम तब करती है जब स्टॉक की समाप्ति तक कम गति होती है।


शॉर्ट स्ट्रैंगल स्ट्रैटेजी के लिए अधिकतम नुकसान असीमित है क्योंकि स्टॉक ट्रेडर के खिलाफ किसी भी दिशा में बढ़ना जारी रख सकता है।


ब्रेक - ईवन

स्ट्रैंगल के ऊपर की तरफ ब्रेकईवन की गणना हमारे कॉल स्ट्राइक मूल्य में प्रीमियम जोड़कर की जाती है और नीचे की ओर पुट स्ट्राइक मूल्य से प्रीमियम घटाकर की जाती है।

लोअर ब्रेकईवन = पूट की स्ट्राइक प्राइस - प्रीमियम प्राप्त

अपर ब्रेकईवन = कॉल की स्ट्राइक प्राइस + प्राप्त प्रीमियम


उदाहरण

यदि कोई व्यापारी निम्नलिखित कीमतों पर शॉर्ट स्ट्रैंगल निष्पादित करता है,

१०५ स्ट्राइक मूल्य के १ कॉल को २० रुपये पर बेचें

९५ स्ट्राइक मूल्य के १ पुट को २३ रुपये पर बेचें

नेट क्रेडिट = 3

यदि स्टॉक ९५ से १०५ की सीमा के भीतर रहता है तो व्यापारी को ३ रुपये पूरे रखने और अपना अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए मिलेगा। यदि स्टॉक ११२ रुपये तक ट्रेड करता है, तो १०५ वाले स्ट्राइक प्राइस के कॉल पर व्यापारी को ७ रुपये का नुकसान होगा, लेकिन क्योंकि उन्हें स्ट्रैंगल करने पर ४ रुपये मिले, तो उन्हें ४ रुपये का नेट नुकसान होगा।


महत्वपूर्ण सलाह

इस व्यापार में असीमित जोखिम होता है, इस तरह के व्यापार को निष्पादित करते समय और क्वांटिटी को कम रखने के लिए बहुत चुनिंदा होने की सिफारिश की जाती है। ट्रेडर्स स्ट्रैंगल्स को बेचना पसंद करते हैं ताकि उन्हें दो प्रीमियम प्राप्त हों, इससे पहले कि वे हारना शुरू करें, स्टॉक को किसी भी दिशा में दो बार आगे बढ़ना होगा।


ये सूचीबद्ध कुछ ही रणनीतियाँ हैं, जिनके बारे में हमने यहाँ पे चर्चा की। जबकि प्रत्येक प्रकार के व्यापारी के पास बाज़ार में एक अनुकूल रणनीति है जिससे वे लाभ उठा सकते हैं। प्रत्येक ऑप्शन ट्रेडर सर्वोत्तम ऑप्शन रणनीति का चयन करता रहता है। ४०० से अधिक ओप्तिओंस की रणनीतियाँ हैं जिनका आप उपयोग कर सकते हैं। लेकिन आपके निवेश लक्ष्य से मेल खाने वाली जीत की रणनीति खोजना एक चुनौती है।


277 views0 comments

Recent Posts

See All