google-site-verification=dCpXFYL0M_Z835WKryUkqtFobns-FEoO78FXyXmp1Pk google-site-verification=dCpXFYL0M_Z835WKryUkqtFobns-FEoO78FXyXmp1Pk
 

स्टॉक एक्सचेंज से मार्जिन लाभ कैसे प्राप्त करें?


आप सेबी के नए पीक मार्जिन नियमों (SEBI’s New Peak Margin Rules) के बारे में जानते होंगे। इन नए नियमों के कारण फ्यूचर्स और ऑप्शन ट्रेडिंग (Futures and options trading) के लिए मार्जिन की आवश्यकता लगभग २ लाख से बढ़कर ३ लाख हो गई है। यदि आप फ्यूचर्स में ट्रेडिंग कर रहे हैं या ऑप्शन बेचना चाहते हैं, तो सेबी (Securities and Exchange Board of India) के अनुसार हेज पोजीशन होने से कम मार्जिन की आवश्यकता होती है। इस ब्लॉग में, हमने शेयर बाजार से मार्जिन लाभ कैसे प्राप्त करें? (How to get margin benefits from the stock market?) कैसे तेजी की मानसिकता वाले लोग स्टॉक एक्सचेंजों (जैसे एनएसई इंडिया और बीएसई इंडिया, आदि) से मार्जिन लाभ प्राप्त कर सकते हैं, मार्जिन की कमी और मार्जिन शॉर्टफॉल पेनल्टी से बचने के लिए अपनी स्थिति को कैसे स्क्वेअर ऑफ करें (how to square off your positions to avoid margin shortfall and margin shortfall penalty), और सेबी के नए मार्जिन नियमों से कैसे निपटें? आदि के बारे में बात की है। कुल मिलाकर यह ब्लॉग आपके लिए संपूर्ण पैकेज होगा और स्टॉक एक्सचेंज से मार्जिन लाभ लेने में यह आपकी काफी मदद करेगा। साथ ही, हम कुछ हेजिंग रणनीतियों (Hedging Strategies) को साझा करने जा रहे हैं जिनके द्वारा आप मार्जिन लाभ ले सकते हैं और मार्जिन शॉर्टफॉल पेनल्टी से बच सकते हैं।

बुलिश सेंटिमेंट के साथ मार्जिन बेनिफिट कैसे प्राप्त करें : -

अगर आपका सेंटीमेंट बुलिश है तो आप सोच रहे होंगे कि BANKNIFTY ऊपर जाएगा। ऐसे में आप इस तरह से स्ट्रेटेजी लगा सकते हैं,

१. आप एक फ्यूचर खरीदते हैं। क्योंकि आपको ऐसे लगता है कि बाजार बढ़ सकता है और आप अच्छा लाभ कमा सकते हैं या एक पुट ऑप्शन शॉर्ट कर सकते हैं क्योंकि पुट को शॉर्ट करने से आपको वह प्रीमियम मिलेगा जिसका उपयोग आप पुट ऑप्शन को शॉर्ट करने के लिए कर रहे हैं ।

२. आप एक कॉल ऑप्शन खरीदते हैं। यदि आप कॉल ऑप्शन खरीदते हैं तो आपको लॉट साइज से गुणा किए गए प्रीमियम के बराबर पूंजी की आवश्यकता होगी (यानी, पूंजी = प्रीमियम x लॉट साइज) जो बहुत कम है। फ्यूचर में या पीई (European Put) के साथ ऑप्शन बेचते समय मार्जिन की आवश्यकता अधिक होगी। अब हम देखेंगे कि आप इस मार्जिन आवश्यकता को कैसे कम कर सकते हैं।

केस १ :- आइए नीचे दी गई छवि को देखें, इस भावना के अनुसार कि बाजार ऊपर जाएगा, मान लीजिए आपने फ्यूचर में २५ बैंकनिफ्टी (BANKNIFTY) खरीदी । जब आप इन फ्यूचर्स को खरीदते हैं, तो सेबी के नए मार्जिन नियमों के अनुसार आपको १, ७३,४८१ रुपये के प्रीमियम की आवश्यकता होगी। यानी इस शेयर को खरीदने और रात भर अपने खाते में रखने के लिए आपके खाते में कम से कम १,७३,४८१ रुपये होने चाहिए।

इस पोजीशन के पेऑफ चार्ट (Payoff chart) देखें देखें। पेऑफ चार्ट से, आपको ब्रेक ईवन पॉइंट (Break Even Point) के बारे में एक विचार मिलेगा, साथ ही आपको यह भी पता चल जाएगा कि अगर शेयर बाजार ऊपर या नीचे चलता है (जैसे एनएसई इंडिया और बीएसई इंडिया, आदि) तो आपको कितना लाभ या हानि होगी।

ऊपर दिए गए पेऑफ चार्ट से, आप देख सकते हैं कि लाभ असीमित है लेकिन नुकसान भी असीमित है। इसलिए, यह स्थिति हेज नहीं है क्योंकि इसमें असीमित नुकसान दिखा रहा रहा है। इस असीमित नुकसान को सीमित करने के लिए आप या तो स्टॉप-लॉस मार्क कर सकते हैं या अपनी पोजीशन को हेज कर सकते हैं। यहां आप पोजीशन को हेज करना चुन सकते हैं, क्योंकि पोजीशन को हेजिंग करने से आपकी मार्जिन आवश्यकता कम हो जाएगी।

पोजीशन को हेज करने और मार्जिन की आवश्यकता को कम करने के लिए पुट ऑप्शन खरीदें। आप अपनी नुकसान झेलने की के क्षमता के आधार पर कोई भी पुट ऑप्शन खरीद सकते हैं । उदाहरण के लिए, ३४५०० पुट ऑप्शन खरीदने पर विचार करें। जैसे ही आप एक पुट ऑप्शन खरीदते हैं, आपका अधिकतम नुकसान २३,७९१ रुपये तक सिमित हो जाता है। जो इस पुट को खरीदने से पहले असीमित था । साथ ही, आपकी मार्जिन आवश्यकता १,७३,००० रुपये से घटकर ५४,३२१ रुपये हो जाती है। (नीचे दी गई छवि देखें) ।

तो अधिक मार्जिन लाभ प्राप्त करने के लिए आप इस तरह अपनी पोजीशन को ‘मिक्स एंड मैच’ कर सकते हैं । अगर आप ज्यादा मार्जिन वाला पुट खरीदते हैं तो आपकी अपफ्रंट मार्जिन की जरूरत और कम हो जाएगी।

इस तरह से आप सेबी के नए मार्जिन नियमों के तहत स्टॉक एक्सचेंज से मार्जिन बेनिफिट ले सकते हैं। यह मामला था कि जब आप तेजी की भावना रखते हैं तो स्टॉक एक्सचेंज से मार्जिन लाभ कैसे लें। आइए देखें कि यदि आप मंदी की भावना रखते हैं तो मार्जिन का लाभ कैसे लें।

यदि आपकी मंदी की भावना है तो मार्जिन लाभ कैसे प्राप्त करें?

यदि आपके पास मंदी की भावना है, तो आपको यकीन है कि बाजार नीचे जाएगा। इसलिए फ्यूचर को शॉर्ट करने और कॉल खरीदने पर विचार करें । आप एक छोटी स्ट्रैडल या स्ट्रैंगल रणनीति का उपयोग कर सकते हैं । जब आपको लगता है कि बाजार एक विशिष्ट सीमा में रहेगा और आपको उसी सीमा में लाभ मिलेगा, तो शॉर्ट स्ट्रैंगलिंग की रणनीति पर विचार करें।

केस २:- आइए मान लें कि आप सुनिश्चित हैं कि आने वाली समाप्ति पर बाजार ३४००० से ३७००० रुपये के बीच में बंद हो जाएगा। तो आप कॉल और पुट शॉर्ट करेंगे। आइए देखें कि मार्जिन बेनिफिट कैसे लें। नीचे दी गई छवि का संदर्भ लें,

मान लीजिए कि आप ३४००० का पुट शॉर्ट करते हैं, तो आवश्यक मार्जिन रु. १, ३४,१२३ होगा, जो बहुत अधिक है। अब इस मार्जिन आवश्यकता को और कम करने के लिए आप ३७००० का कॉल खरीदेंगे, इस प्रक्रिया को शॉर्ट-स्ट्रैंगल कहा जाता है। अगर बाजार ३४००० से रु. ३७००० रुपये के बीच बंद होता है तो निश्चित रूप से आपको लाभ होगा। लेकिन इस मामले में मार्जिन की आवश्यकता अभी भी अधिक है क्योंकि आपकी स्थिति को हेज नहीं किया गया है।

जब आपने पहली पोजीशन खरीदी तो मार्जिन १, ३५,००० था, दूसरी पोजीशन के लिए आपकी मार्जिन आवश्यकता घटकर ७०००० हो गई। यहां कई ट्रेडर इसे गलत तरीके से व्याख्यायित करेंगे कि केवल कॉल को शॉर्ट करने के लिए ७०००० रुपये मार्जिन आवश्यक था। जो लोग शॉर्ट स्ट्रैडल और स्ट्रैंगल करते हैं, उनके लिए दोनों पोजीशन का प्रीमियम बहुत ज्यादा अलग नहीं होगा।

क्या आपको याद है कि बुलिश सेंटिमेंट के रूप में जब आपने फ्यूचर खरीदा था, तो पुट खरीदने के बाद आवश्यक मार्जिन लगभग ३ गुना कम हो गया था? लेकिन इस मामले में मार्जिन की आवश्यकता क्यों नहीं घटी? यह अभी भी ज्यादा क्यों है? इसकी वजह सेबी के नए नियम (SEBI’s New Peak Margin Rules) हैं। नीचे दिए गए ग्राफ का संदर्भ लें,


ऊपर दिए गए पेऑफ चार्ट से, आप बता सकते हैं कि अधिकतम हानि असीमित है जिसका अर्थ है कि स्थिति को हेज नहीं किया गया है, और इसी वजह से मार्जिन ज्यादा लग रहा है।

यहां नुकसान असीमित क्यों है? हालांकि आपका एक मजबूत विचार है कि बाजार ३४००० से ३७००० रुपये के बीच रहेगा। लेकिन क्या होगा अगर किसी अप्रत्याशित घटना में बाजार ३४००० रु.से निचे या ३७००० रु. से ऊपर चला जाता है? तो उस स्थिति में, आपके पास असीमित जोखिम होगा।

जैसा कि ग्राफ में है, आपका अधिकतम लाभ रु.१७०० है और आपका अधिकतम नुकसान असीमित है; चूंकि आपका नुकसान असीमित है, इसका मतलब आपकी पोजीशन हेज नहीं है। इसलिए आपकी मार्जिन आवश्यकता काफी अधिक है यानी १,३५,००० रुपये हैं। याद रखें कि जब भी असीमित हानि की स्थिति होती है तो आपको अग्रिम मार्जिन का भुगतान करना होता है। यदि आप पोजीशन को हेज करते हैं और नुकसान को सिमित करते हैं तो आपकी मार्जिन आवश्यकता काफी कम हो जाती है। इसलिए मार्जिन लाभ लेने के लिए आपको डीप ओटीएम कॉल और पुट ऑप्शन खरीदना होगा ।

तो यहां, स्थिति को हेज करने के लिए आपको ३४५०० कॉल ऑप्शन (उदाहरण के लिए ५०० रुपये अप-डाउन) खरीदने और मार्जिन आवश्यकता की जांच करने की आवश्यकता है। नीचे दी गई छवि देखें,

यहां मार्जिन गिरा लेकिन इतना ज्यादा नहीं क्योंकि आपने सिर्फ एक तरफ से हेजिंग मुहैया कराई है। मार्जिन को और कम करने के लिए आपको दूसरी तरफ से भी पोजीशन को हेज करने की जरूरत है। आप ३७५०० कॉल ऑप्शन खरीदकर ऐसा कर सकते हैं। जैसे ही आप ३७५०० कॉल खरीदते हैं, मार्जिन बिना हेजिंग के आवश्यक मार्जिन से लगभग ३ गुना कम हो जाता है। (नीचे दी गई छवि को देखें) ।

अब इस पोजीशन के लिए पेऑफ चार्ट देखें। यहां न केवल नुकसान सिमित हुआ बल्कि लाभ भी घटकर रु. ८०० रुपये से १७०० रुपये हो गया । लेकिन प्लस पॉइंट यह है कि आप एक ही पूंजी में ऐसी ३ पोजीशन खरीद सकते हैं। तो भले ही आपका लाभ ८०० रुपये तक सीमित हो, ऐसी तीन पोजीशन खरीदकर आप ३ गुना ८०० (३ x८००) के बराबर लाभ प्राप्त कर सकते हैं जो २४०० के बराबर है जो स्पष्ट रूप से १७०० से अधिक है ।

ध्यान दें :- आपके पास शुरुआती ट्रेडों को खरीदने के लिए आपके खाते में १ लाख से १.५ लाख रुपये तक पूंजी होनी चाहिए । चूंकि हेजिंग के कारण मार्जिन की आवश्यकता कम हो जाती है और पोजीशन को हेज करने के लिए आपको सबसे पहले पोजीशन खरीदने की जरूरत होती है।

मार्जिन की कमी के दंड (Margin shortfall Penalty) से बचने के लिए सुरक्षित रूप से पोजीशन को स्क्वेअर ऑफ कैसे करें?

कई ट्रेडर गलत तरीके से बाहर निकलते हैं और मार्जिन शॉर्टफॉल पेनल्टी का शिकार बन जाते हैं। तो इससे बचने के लिए आपको पहले अपनी जोखिम भरी पोजीशन को बेचना होगा और फिर अपनी हेजिंग पोजीशन को बेचना होगा। यदि आप पहले अपनी हेजिंग पोजीशन (Hedging position) बेचते हैं तो आपकी जोखिम भरी स्थिति फिर से असीमित नुकसान के परिदृश्य में आ जाती है जिससे मार्जिन की आवश्यकता बढ़ जाती है और यदि आपके खाते में इतना पैसा नहीं है , तो सेबी मार्जिन शॉर्टफॉल पेनल्टी चार्ज करेगा। जहां भी फ्यूचर्स और ऑप्शंस में अनलिमिटेड लॉस का परिदृश्य होता है, मार्जिन की कमी (Margin shortfall penalty) से बचने के लिए आपको पहले अनलिमिटेड लॉस वाली पोजीशन को बेचना चाहिए।

इस तरह, आप एक्सचेंज से मार्जिन लाभ (Margin benefit from stock exchange) प्राप्त करने के लिए और मार्जिन शॉर्टफॉल पेनल्टी (Margin shortfall penalty) से बचने के लिए हमने इस ब्लॉग में बताई गयी रणनीति का इस्तेमाल कर सकते है । अगर आप अभी भी सेबी के नए मार्जिन नियमो से अपरिचित है तो आप सेबी के नए मार्जिन नियम का ब्लॉग पढ़ सकते है।



234 views0 comments

Recent Posts

See All