google-site-verification=dCpXFYL0M_Z835WKryUkqtFobns-FEoO78FXyXmp1Pk google-site-verification=dCpXFYL0M_Z835WKryUkqtFobns-FEoO78FXyXmp1Pk
 

फ़्यूचर्स और ऑप्शंस ट्रेडिंग की सबसे बेहतर रणनीतियाँ! (Futures and Options Trading Strategies)

फ-्यूचर्स-और-ऑप्शंस-ट्रेडिंग-की-सबसे-बेहतर-रणनीतियाँ-futures-and-options-trading-strategies

किसी भी ट्रेडर के लिए फ़्यूचर्स और ऑप्शंस ट्रेडिंग (futures and options trading) में प्रवेश करने से पहले फ़्यूचर्स और ऑप्शंस के बारे में जानना बहुत ज़रूरी है। यदि आप बिना किसी जानकारी के F और O ट्रेडिंग शुरू करते हैं तो आपका ट्रेडिंग में कोई फ्यूचर नहीं होगा और आपके पास कोई ऑप्शन नहीं रहेगा। इसलिए, हम फ्यूचर्स और ऑप्शंस ट्रेडिंग पर एक विस्तृत ब्लॉग लेकर आए हैं। फ़्यूचर्स और ऑप्शंस डेरिवेटिव बाजार के प्रकार के अंतर्गत आते हैं। मूल रूप से चार प्रकार के डेरिवेटिव बाजार हैं अर्थात फॉरवर्ड, फ्यूचर्स, ऑप्शंस और, स्वैप। इस ब्लॉग में, हमने फ़्यूचर्स और ऑप्शंस पर चर्चा की है। फ्यूचर्स और ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करें? (How to do futures and options trading?) की समझ पाने के लिए इस ब्लॉग को पूरा पढ़ें।


इस ब्लॉग में आप पढ़ेंगे

  • फ़्यूचर्स और ऑप्शंस ट्रेडिंग क्या है? (What is futures and options trading?)

  • फ़्यूचर्स और ऑप्शंस ट्रेडिंग कैसे करें? (How to do futures and options trading?)

  • फ़्यूचर्स और ऑप्शंस ट्रेडिंग रणनीतियाँ (What are the futures and options trading strategies)

  • निष्कर्ष (Conclusion)

फ़्यूचर्स और ऑप्शंस ट्रेडिंग क्या है? (What is futures and options trading?)

फ़्यूचर्स और ऑप्शंस एक डेरिवेटिव हैं जिनका शेयर बाजार में कारोबार किया जाता है। ये दो पक्षों द्वारा बाद की तारीख में पूर्व निर्धारित मूल्य पर स्टॉक खरीदने या बेचने के लिए हस्ताक्षरित कॉन्ट्रैक्ट होता हैं। कॉन्ट्रैक्ट के खरीदार और विक्रेता भविष्य में वितरित की जाने वाली किसी संपत्ति या प्रतिभूती (Security) के लिए आज की तारीख पे कीमत का भुगतान करने का निर्णय लेते हैं। आसान भाषा में अगर बताया जाये की फ़्यूचर्स और ऑप्शंस क्या है? (What is futures and options trading?) तो, फ्यूचर्स और ऑप्शंस उस ट्रेडिंग को संदर्भित करते हैं जो भविष्य की तारीख में की जाती है। फ़्यूचर्स और ऑप्शंस डेरिवेटिव बाजार के अंतर्गत आते हैं। जो कुछ भी किसी और चीज से उत्पन्न होता है वह उसका डेरिवेटिव हो जाता है। उदाहरण के लिए, पेट्रोल और डीजल कच्चे तेल से बनाए जाते हैं। इसलिए, पेट्रोल और डीजल कच्चे तेल के डेरिवेटिव हैं। ठीक उसी तरह जैसे फ़्यूचर्स और ऑप्शंस अपनी कीमत अंडरलाइंग एसेट से प्राप्त करते हैं।


फ्यूचर्स और ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करें? (How to do futures and options trading?)

F और O मार्केट में, शेयरों का कारोबार 'लॉट्स' में होता है। खास कंपनियों के पास खास 'लॉट' होते हैं। एक 'लॉट' में एक से अधिक शेयर होते हैं। फ्यूचर्स और ऑप्शंस इन्हीं 'लॉट्स' में ही खरीदे या बेचे जाते हैं। आप F और O ( F and O) ट्रेडिंग के लिए सिर्फ एक ही शेयर नहीं खरीद सकते। फ्यूचर्स और ऑप्शंस में ट्रेडिंग करने के लिए कुछ बहुत ही उपयुक्त स्ट्रेटेजीज (futures and options trading strategies) सुझाई गयी है। यह स्ट्रेटेजीज मुख्य रूप से हेजिंग के लिए उपयोग में लायी जाती हैं। इसका मतलब है कि इसका उपयोग जोखिमों को कम करने के लिए किया जाता है। इसके बारे में हम आगे चर्चा करेंगे।

आइये समजेकी फ्यूचर्स और ऑप्शंस में ट्रेड कैसे करते है? (How to do futures and options trading?) फ्यूचर्स और ऑप्शंस में ट्रेड करने के लिए ट्रेडर के पास डीमैट अकाउंट होना जरूरी नहीं है। उन्हें केवल ब्रोकरेज खाते की आवश्यकता है। एक व्यापारी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) पर फ़्यूचर्स और ऑप्शंस का व्यापार कर सकता है। एनएसई (नेशनल सिक्योरिटीज एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया) पर एफ और ओ ट्रेडिंग के लिए १०० सिक्युरिटीज और नौ प्रमुख इंडेक्स उपलब्ध हैं। फ्यूचर्स ऑप्शंस की तुलना में तेजी से आगे बढ़ते हैं।

फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट अधिकतम तीन महीने के लिए वैध होते हैं। एक विशिष्ट फ़्यूचर्स और ऑप्शंस लेनदेन में, व्यापारी आमतौर पर केवल सहमत कॉन्ट्रैक्ट मूल्य और बाजार मूल्य के बीच के अंतर का भुगतान करते है । इसलिए, आपको अंडरलाइंग एसेट की वास्तविक कीमत का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं होती है।

फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट के अनुसार, व्यापार को निर्दिष्ट तिथि पर चुकता किया जाना चाहिए। जबकि, ऑप्शन खरीदारों के पास कॉन्ट्रैक्ट बेचने का दायित्व नहीं है।

फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट में ट्रेड करने के लिए किसी अपफ्रंट मार्जिन की आवश्यकता नहीं होती है। फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट के मामले में, भुगतान केवल तभी किया जाता है जब निर्दिष्ट तिथि पर फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट को समाप्त कर दिया जाता है।

यदि कोई व्यापारी भविष्य की तारीख में एक ऑप्शन खरीदना चाहता है तो उसे प्रीमियम का भुगतान करना होगा, उस स्टॉक के लिए पूरी राशि का भुगतान करने की जरुरत नहीं होगी । यदि किसी कारण से खरीदार ऑप्शन का प्रयोग करना नहीं चुनता है तो ऑप्शन का विक्रेता प्रीमियम जमा करके अपना पैसा कमाता है।

फ्यूचर्स और ऑप्शंस ट्रेडिंग रणनीतियाँ (What are the futures and options trading strategies)

. कवर्ड कॉल

कवर्ड कॉल ऑप्शन रणनीति लंबी अवधि के स्टॉक निवेशकों के बीच बहुत लोकप्रिय है क्योंकि यह शेयरों पर नुकसान की संभावना को कम कर सकती है। यह उन शेयरों पर आय का एक प्रवाह बना सकता है। इस रणनीति को निष्पादित करना और उसका पालन करना बहुत आसान है। कवर्ड कॉल ऑप्शन रणनीति में दो घटक होते हैं पहला, आपका किसी स्टॉक के कम से कम सौ शेयरों का मालिक होना और दूसरा घटक आपके पास मौजूद स्टॉक के शेयरों के लिए कॉल ऑप्शन बेचना है। मतलब, आपके पास हर एक कॉल ऑप्शन के लिए स्टॉक के कम से कम १०० शेयर होने चाहिए, जिसे आप इसे बेचने के लिए एक वास्तविक कवर कॉल पोजीशन के रूप में बेचते हैं। स्टॉक के किसी भी शेयर के मालकी हक़ के बिना कॉल ऑप्शन को बेचना एक अविश्वसनीय रूप से जोखिम भरी रणनीति है क्योंकि कॉल ऑप्शन मूल्य में वृद्धि के रूप में शेयर की कीमत में वृद्धि जारी रहती है।

. प्रोटेक्टिव पुट

प्रोटेक्टिव पुट ऑप्शन स्ट्रैटेजी को मैरिड पुट भी कहा जाता है। यह तब होता है जब आप एक निश्चित मूल्य से नीचे लंबी स्टॉक पोजीशन के जोखिम को पूरी तरह से कम करने या समाप्त करने के प्रयास में स्टॉक के कम से कम सौ शेयरों के खिलाफ एक लंबे पुट ऑप्शन को जोड़ते हैं। मैरिड पुट एक ऐसी फ्यूचर्स और ऑप्शंस रणनीति (Future and option startegies) है जिसमें लॉन्ग स्टॉक के सौ शेयरों के खिलाफ पुट ऑप्शन खरीदना शामिल होता है। इस रणनीति का उपयोग पुट की खरीद के माध्यम से एक लंबी स्टॉक पोजीशन के नकारात्मक जोखिम को कम करने के लिए किया जाता है।


. बुल कॉल स्प्रेड

बुल कॉल स्प्रेड ऑप्शन स्ट्रैटेजी एक ऐसी फ्यूचर्स और ऑप्शंस रणनीति (Future and option startegies) है जो स्टॉक की कीमत बढ़ने पर मुनाफा कमाती है और यह चार वर्टिकल स्प्रेड ऑप्शन रणनीतियों में से एक है। स्टॉक के सिर्फ १०० शेयर खरीदने की तुलना में बुल कॉल स्प्रेड एक छोटे स्टॉक मूल्य वृद्धि से अधिक पैसा कमा सकता है। इसका मतलब है कि बुल कॉल स्प्रेड ट्रेडर को लीवरेज प्रदान करता है। स्टॉक के १०० शेयर खरीदने की तुलना में बुल कॉल स्प्रेड में नुकसान की संभावना कम होती है। बुल कॉल स्प्रेड की वापसी क्षमता आमतौर पर स्टॉक के १०० शेयर खरीदने की तुलना में बहुत अधिक होती है क्योंकि जब आप स्टॉक के १०० शेयर खरीदते हैं तो उन शेयरों को खरीदने की लागत उसी स्टॉक पर कॉल स्प्रेड खरीदने की तुलना में कहीं अधिक महत्वपूर्ण होती है।

. बियर पुट स्प्रेड

बियर पुट स्प्रेड ऑप्शन स्ट्रैटेजी एक मंदी की रणनीति है जो स्टॉक की कीमत घटने पर मुनाफा देती है लेकिन स्टॉक की कीमत बढ़ने पर सीमित नुकसान की संभावना भी होती है। स्टॉक के १०० शेयरों को शॉर्ट करने की तुलना में बियर पुट स्प्रेड चार वर्टिकल स्प्रेड ऑप्शन रणनीतियों में से एक है। अगर शेयर की कीमत बढ़ती है तो बियर पुट स्प्रेड में सीमित नुकसान की संभावना होती है। स्टॉक के शॉर्टिंग शेयरों में असीमित नुकसान की संभावना होती है क्योंकि स्टॉक की कीमत कितनी बढ़ सकती है इसकी कोई सीमा नहीं है। इसका मतलब है कि स्टॉक के शेयरों को शॉर्ट करते समय नुकसान की संभावना कितनी हो सकती है, इसकी कोई सीमा नहीं है। स्टॉक के १०० शेयरों को शॉर्ट करने की तुलना में बियर पुट स्प्रेड में भी आम तौर पर बहुत अधिक रिटर्न क्षमता होगी क्योंकि स्टॉक के सौ शेयरों को शॉर्ट करने के लिए मार्जिन की आवश्यकता आमतौर पर पुट स्प्रेड खरीदने की तुलना में कहीं अधिक महत्वपूर्ण होगी।

. प्रोटेक्टिव कॉलर

कॉलर एक लॉन्ग स्टॉक पोजीशन, एक शॉर्ट कॉल पोजीशन और एक लॉन्ग पुट पोजीशन का संयोजन है। प्रोटेक्टिव कॉलर एक ऑप्शन रणनीति है जिसमें एक साथ पुट ऑप्शन खरीदना और लॉन्ग स्टॉक के सौ शेयरों के खिलाफ कॉल ऑप्शन बेचना शामिल होता है।

. लॉन्ग स्ट्रैडल

लॉन्ग स्ट्रैडल स्ट्रैटेजी में प्रॉफिट तब होता है जब स्टॉक की कीमत किसी भी दिशा में महत्वपूर्ण मूवमेंट करती है या जब इंप्लाइड वोलैटिलिटी बढ़ जाती है। स्ट्रैडल्स खरीदना लॉन्ग स्ट्रैडल के रूप में संदर्भित एक ऑप्शन रणनीति है जिसे एक ही स्ट्राइक प्राइस पर और उसी एक्सपायरी साईकल में कॉल और पुट ऑप्शन खरीदकर बनाया जाता है। ज्यादातर समय एट द मनी स्ट्राइक प्राइस का इस्तेमाल किया जाता है। लॉन्ग स्ट्रैडल की अधिकतम लाभ क्षमता सैद्धांतिक रूप से असीमित है क्योंकि आपके पास कॉल ऑप्शन है और स्टॉक की कीमत कितनी बढ़ सकती है इसकी कोई सीमा नहीं है। लॉन्ग स्ट्रैडल के लिए अधिकतम नुकसान की संभावना उस समय भुगतान किया गया डेबिट है। ज्यादातर समय एक लंबी स्ट्रैडल कुछ इंन्ट्रिंसिक मूल्य के साथ समाप्त हो जाएगी लेकिन आप जानते हैं कि अगर स्टॉक की कीमत उस स्ट्राइक मूल्य से दूर नहीं जाती है तो अभी भी एक बड़ा नुकसान हो सकता है। तो एक्सपायरी की ब्रेकईवन कीमतें स्ट्राइक प्राइस प्लस डेबिट भुगतान और स्ट्राइक प्राइस माइनस डेबिट भुगतान होने जा रही हैं। तो एक्सपायरी पर एक लंबी स्ट्रैडल पर पैसा बनाने के लिए स्टॉक की कीमत उस डेबिट से अधिक होनी चाहिए जो आपने स्ट्रैडल स्ट्राइक मूल्य से भुगतान की है।


. लॉन्ग स्ट्रैंगल

लॉन्ग स्ट्रैंगल एक ऑप्शन रणनीति है जो किसी भी दिशा में स्टॉक की कीमत में बड़े उतारचढ़ाव से मुनाफा कमाती है। यदि स्टॉक की कीमत काफी ऊपर या नीचे की ओर बढ़ती है तो लॉन्ग स्ट्रैंगल एक अच्छी रणनीति होगी। लॉन्ग स्ट्रैंगल तब होता है जब आप स्ट्रैंगल खरीदते हैं। तो स्ट्रैंगल खरीदना एक ऑप्शन रणनीति है जिसमें एक ही एक्सपायरी साईकल के स्टॉक पर आउट-ऑफ-द-मनी कॉल खरीदना शामिल है। चूंकि लॉन्ग स्ट्रैंगल तकनीकी रूप से एक तटस्थ रणनीति है, इसलिए लॉन्ग स्ट्रैंगल के लिए स्टॉक की कीमत में महत्वपूर्ण बदलाव या लाभ के लिए इम्प्लाईड वोलैटिलिटी की आवश्यकता होती है। इसलिए जब आप एक स्ट्रैंगल खरीदते हैं तो आपको स्टॉक की कीमत में काफी ऊपर या नीचे जाने की आवश्यकता होती है या लाभ कमाने के लिए आपको वृद्धि करने के लिए इम्प्लाईड वोलैटिलिटी की आवश्यकता होती है।

. बटरफ्लाई स्प्रेड

बटरफ्लाई स्प्रेड का निर्माण या तो सभी कॉलों या सभी पुट के साथ किया जा सकता है और यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस प्रकार के ऑप्शन का उपयोग करते हैं। कुछ मामलों में गणना अलग होगी। लॉन्ग बटरफ्लाई स्प्रेड एक सीमित जोखिम-तटस्थ ऑप्शन रणनीति है जिसमें एक साथ कॉल खरीदना या पुट स्प्रेड और कॉल या पुट स्प्रेड को बेचना शामिल है जो समान शॉर्ट स्ट्राइक को साझा करता है।

. आयरन कोंडोर

आपके लाभ की पोजीशन के लिए, आयरन कोंडोर एक सीमित जोखिम की रणनीति है जिसका अर्थ है कि आप व्यापार करने से पहले अपने जोखिम का सौ प्रतिशत जानते हैं। आयरन कोंडोर बेचते समय आप समय बीतने के साथ ही पैसा कमा सकते हैं, जब तक कि स्टॉक की कीमत आपके चयन की एक निर्दिष्ट सीमा के भीतर रहती है। नुकसान की संभावना को कम करने के लिए आयरन कोंडोर को भी समायोजित किया जा सकता है।

१०. लॉन्ग आयरन बटरफ्लाई

लॉन्ग आयरन बटरफ्लाई अनिवार्य रूप से कम कीमत पर स्ट्रैडल खरीदने का एक तरीका है, लेकिन इसके साथ ही कम लाभ की संभावना भी आती है। लॉन्ग आयरन बटरफ्लाई, आयरन बटरफ्लाई खरीदने के समान ही है और इस रणनीति में एक साथ एक ही स्ट्राइक मूल्य या एक स्ट्रैडल पर कॉल इनपुट खरीदना शामिल है, जबकि आउट-ऑफ-द-मनी कॉल और आउट ऑफ द मनी पुट को बेचना भी शामिल है। तो आप अनिवार्य रूप से एक स्ट्रैडल खरीद रहे हैं और उस स्ट्रैडल के खिलाफ एक स्ट्रैंगल बेच रहे हैं। लॉन्ग ऑप्शन रणनीति का दूसरा मतलब एक लॉन्ग कॉल स्प्रेड और लॉन्ग पुट स्प्रेड का संयोजन करना है।

निष्कर्ष

फ्यूचर और ऑप्शंस डेरिवेटिव के प्रकार हैं जो अंडरलाइंग से अपना मूल्य प्राप्त करते हैं। यदि आपके पास उचित ज्ञान है तो आप F और O में व्यापार करके उचित मात्रा में लाभ प्राप्त कर सकते हैं। वैसे तो कई F और O रणनीतियाँ (futures and options trading strategies) उपलब्ध हैं। आपको बस वही रणनीति चुननी होगी जो आपके पोर्टफोलियो की ज़रूरतों के अनुकूल हो। इस तरह से हम आशा करते हैं कि इस ब्लॉग के माध्यम से आपको F और O ट्रेडिंग क्या है? (What is futures and options trading?), फ्यूचर्स और ऑप्शंस ट्रेडिंग स्ट्रैटेजी, साथ ही फ्यूचर्स और ऑप्शंस ट्रेडिंग कैसे करें? (How to do futures and options trading), इन सबके के बारे में ज्ञान प्राप्त हुआ होगा।

289 views0 comments