google-site-verification=dCpXFYL0M_Z835WKryUkqtFobns-FEoO78FXyXmp1Pk google-site-verification=dCpXFYL0M_Z835WKryUkqtFobns-FEoO78FXyXmp1Pk
 

पोजीशन डेल्टा (Position Delta) की मदत से डायरेक्शनल रिस्क को कैसे पहचाने?


ऑप्शंस ग्रीक्स का उपयोग ऑप्शन ट्रेडर्स द्वारा बहुत सारी रिस्क का आकलन करने के लिए किया जाता है जिसमे उनकी पोजीशन होती है। शेयर बाजार के लिए विभिन्न ग्रीक्स उपलब्ध हैं जो ट्रेडर्स को उनके विश्लेषण में मदद करते हैं। आज हम पोजीशन डेल्टा (Position Delta) पर चर्चा करने जा रहे हैं। ऑप्शंस डेल्टा (Options Delta) आपको बताता है कि स्टॉक की कीमत में बदलाव के सापेक्ष उस ऑप्शन की कीमत में कितना बदलाव होने की उम्मीद है जबकि पोजीशन डेल्टा आपको लाभ या हानि बताती है जो आप अंडरलाइंग स्टॉक में ₹१ के परिवर्तनों के हिसाब से उम्मीद कर सकते हैं। इसका आसान भाषा में मतलब है की, जब अंडरलाइंग स्टॉक ₹१ से बढ़ता है या कम होता है, तो पोजीशन डेल्टा आपको उस बदलाव के कारण कितना अपेक्षित लाभ या हानि होगी यह बताता हैं। इस ब्लॉग में हमने हिंदी में डेल्टा ट्रेडिंग (Delta Trading Hindi) में इस्तेमाल होने वाले पोजीशन डेल्टा (Position Delta Hindi) को विस्तार से समझाया है।


इस ब्लॉग में आप पढ़ेंगे,

ऑप्शन डेल्टा क्या है?

कॉल ऑप्शन डेल्टा क्या है?

पुट ऑप्शन डेल्टा क्या है?

ऑप्शन-स्ट्राइक प्राइस और ऑप्शन डेल्टा के बीच संबंध

डायरेक्शनल रिस्क मापने के लिए ऑप्शन डेल्टा का उपयोग कैसे करेंगे?

पोजीशन डेल्टा (Position Delta) क्या है?

पोजीशन डेल्टा की गणना

पोजीशन डेल्टा (Position Delta Hindi) के साथ ऑप्शन डेल्टा ट्रेडिंग स्ट्रेटेजीज (Delta Trading strategy)

निष्कर्ष (Conclusion)

डेल्टा ट्रेडिंग ऑप्शन डेल्टा (Options Delta in Delta Trading)

फायनांस में, डेल्टा एक अंडरलाइंग एसेट की कीमत में उसके डेरीवेटिव की कीमत में होने वाले बदलावों के संबंध में परिवर्तन की दर है। डेल्टा (Delta) अंडरलाइंग स्टॉक के प्राइस में एक रुपये परिवर्तन के संबंध में ऑप्शन प्राइस में होने वाला अपेक्षित परिवर्तन है। अंडरलाइंग केवल वह स्टॉक है जिसपर ऑप्शन का कारोबार किया जाता है। डेल्टा ट्रेडिंग (Delta Trading) स्ट्रेटेजीज को तय करने में डेल्टा (Delta) मुख्य भूमिका निभाता है।

कॉल ऑप्शन डेल्टा (Call Option Delta)

कॉल ऑप्शन में डेल्टा पॉजिटिव होता है। पॉजिटिव डेल्टा (Delta) का मतलब है कि जब स्टॉक की कीमत बढ़ने पर कॉल ऑप्शन की कीमत बढ़ जाती है और स्टॉक की कीमत घटने पर कॉल ऑप्शन की कीमत घट जाती है। संक्षेप में, पॉजिटिव डेल्टा का मतलब है कि ऑप्शन की कीमत स्टॉक की कीमत के साथ घटती है या बढ़ती है।

आइए कुछ उदाहरणों के माध्यम से आपको दिखाते हैं कि डेल्टा (Delta) वास्तव में स्टॉक प्राइस में एक रुपये के बदलाव के सापेक्ष अपेक्षित ऑप्शन प्राइस में परिवर्तन को कैसे दर्शाता है।

मान लें कि कॉल का डेल्टा +०.७५ है। पॉजिटिव डेल्टा बताता है कि ऑप्शन की कीमत स्टॉक की कीमत के साथ बढ़ने और स्टॉक की कीमत के साथ गिरने की उम्मीद है।

उदाहरण के लिए, यदि स्टॉक की कीमत १ रुपये से बढ़ जाती है, तो ०.७५ के डेल्टा वाले पांच रुपये के ऑप्शन की कीमत ५.७५ रुपये होने की उम्मीद है।

यदि शेयर की कीमत में १ रुपये की कमी होती है तो ५ रुपये के ऑप्शन की कीमत (५ .०० - ०.७५ =४.२५) ४.२५ रुपये हो जाएगी।

नीचे दिए गए ग्राफ को देखें,

इस उदाहरण में, हम स्पष्ट रूप से देख सकते हैं कि जब स्टॉक की कीमत गिरती है, तो कॉल की कीमत गिरती है, और जब स्टॉक की कीमत बढ़ती है, तो कॉल की कीमत भी बढ़ जाती है, इसलिए यह ग्राफ आपको केवल यह दिखा रहा है कि कॉल ऑप्शन के पॉजिटिव डेल्टा का मतलब है कि कॉल ऑप्शन की कीमत शेयर की कीमत के साथ बढ़ती और गिरती है।


पुट ऑप्शन डेल्टा

पुट ऑप्शन का डेल्टा निगेटिव होता है। एक निगेटिव डेल्टा दर्शाता है कि स्टॉक की कीमत के बढ़ने पर ऑप्शन की कीमत गिरने की उम्मीद होती है और स्टॉक की कीमत गिरने पर ऑप्शन की कीमत बढ़ने की उम्मीद है।

उदाहरण के लिए, मान लें कि ₹३.०० पुट ऑप्शन का डेल्टा निगेटिव ०.२५ है। यदि स्टॉक की कीमत ₹१ से बढ़ जाती है, तो ₹३.०० ऑप्शन के ०.२५ रुपये गिरने और २.७५ रुपये होने की उम्मीद है। दूसरी ओर, यदि स्टॉक की कीमत ₹१ से गिरती है, तो ₹३.०० ऑप्शन की कीमत में ०.२५ रुपये की वृद्धि होकर स्टॉक की कीमत 3.२५ रुपये हो जाने की उम्मीद है।

नीचे दिए गए ग्राफ को देखें,

उपरोक्त उदाहरण से, आपको स्टॉक की कीमत के अनुसार पुट ऑप्शन का प्राइस कैसे बदलता है इसका पता चलेगा।

ऑप्शन स्ट्राइक प्राइस और डेल्टा (Delta) के बीच संबंध

ऑप्शन स्ट्राइक प्राइस सामान्य डेल्टा स्तर को समझाने में मदद कर सकता है। आइए आईटीएम (ITM), एटीएम (ATM) और ओटीएम (OTM) ऑप्शन के लिए डेल्टा के प्राइस को समझते हैं।

इन द मनी (ITM) कॉल में + ०.५ और + १ के बीच एक डेल्टा होगा और इन द मनी (ITM) पुट का डेल्टा - ०.५ और -१ के बीच होगा ।

एट द मनी (ATM) में कॉल का डेल्टा +०.५ के पास होगा और एट द मनी पुट का डेल्टा निगेटिव ०.५ के पास होगा।

आउट ऑफ़ द मनी (OTM) ऑप्शन कम संवेदनशील होते हैं। इसलिए, आउट ऑफ़ द मनी कॉल में डेल्टा ० और ०.५ के बीच होता है, और आउट ऑफ़ द मनी पुट में डेल्टा ० और निगेटिव ०.५ के बीच होता है।


डायरेक्शनल रिस्क को मापने के लिए ऑप्शन डेल्टा का उपयोग कैसे करेंगे?

उदाहरण के लिए कीसी भी दो कॉल ऑप्शन पर विचार करें, पहले कॉल ऑप्शन की कीमत ₹१० है और इसका डेल्टा ०.९५ है। तो इसका मतलब है कि शेयर की कीमत ₹१ से बढ़ने के बाद ₹१० का ऑप्शन ०.९५ तक बढ़ने और १० .९५ हो जाने की उम्मीद है। शेयर की कीमत ₹१ से घटने के बाद ₹१० का ऑप्शन ०.९५ गिरकर ९.०५ हो जाने की उम्मीद है।

अब दूसरे ऑप्शन पर नजर डालते हैं जिसकी कीमत ₹१ है और जिसका डेल्टा ०.१० है। जब शेयर की कीमत ₹१ से बढ़ जाती है तो उस ₹१ के ऑप्शन में ०.१० की वृद्धि होने की उम्मीद है और जब शेयर की कीमत ₹१ गिरती है तो उसकी कीमत ०.१० से घटने की उम्मीद है।

जैसा कि हम आंकड़े से देख सकते हैं, जब स्टॉक की कीमत समान राशि से बदलती है तब उच्च डेल्टा वाले कॉल ऑप्शन की कीमत में अधिक उतार-चढ़ाव की उम्मीद है। इसलिए, बड़े डेल्टा मूल्यों वाले ऑप्शन अधिक डायरेक्शनल होते है क्योंकि अंडरलाइंग में प्रत्येक ₹१ के परिवर्तन के साथ ऑप्शन प्राइस में अधिक उतार-चढ़ाव की उम्मीद है। नीचे दिए गए चार्ट को देखें,

तो, इस चार्ट में, हम S&P५०० ETF देख रहे हैं, जिसका टिकर SPY है। अब इस चार्ट के निचले भाग में, हम अलग-अलग प्रारंभिक डेल्टा के साथ तीन अलग-अलग SPY CALL ऑप्शन देख रहे हैं। तो ग्रीन लाइन ०.७५ डेल्टा कॉल है, पीली लाइन 0.५ डेल्टा कॉल है, और ब्लू लाइन ०.२५ डेल्टा कॉल है।

जैसा कि हम यहां देख सकते हैं, यह बहुत स्पष्ट है कि ०.७५ डेल्टा कॉल स्टॉक प्राइस में परिवर्तन के प्रति सबसे संवेदनशील है जबकि ०.२५ डेल्टा कॉल स्टॉक प्राइस में उन्हीं परिवर्तनों के प्रति बहुत कम संवेदनशील है। तो अगर हम एक ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट के बारे में बात कर रहे हैं, तो डेल्टा ० के करीब है, मतलब स्टॉक प्राइस में बदलाव के लिए कम संवेदनशील ऑप्शन है। हालांकि, अगर हम कॉल ऑप्शन को देख रहे हैं, तो कॉल का डेल्टा +१ के जितना करीब होगा और वह पोजीशन जोखिम के उतने करीब होगी।

यदि इसके बजाय, आपके पास निगेटिव डेल्टा का एक पुट ऑप्शन है, तो स्टॉक की कीमत में एक रुपये की कमी होने पर पुट ऑप्शन की कीमत में एक रुपये की वृद्धि होने की उम्मीद है। नीचे इमेज देखें,

यदि आपके पास एक पुट ऑप्शन है जो एक रुपये से बढ़ता है, तो उस पोजीशन पर ₹१०० लाभ होगा। तो इसका मतलब यह है कि -१ के करीब डेल्टा वाले पुट ऑप्शन शॉर्ट स्टॉक पोजीशन की तरह काम करते हैं। अगर स्टॉक की कीमत एक रुपये से कम हो जाती है तो पुट की कीमत एक रुपये बढ़ जाएगी और यह अनिवार्य रूप से शॉर्टिंग के समान ही है।

पोजीशन डेल्टा (Position Delta) को समझना

ऑप्शंस डेल्टा आपको बताता है कि स्टॉक की कीमत में बदलाव के सापेक्ष ऑप्शन की कीमत में कितना बदलाव होने की उम्मीद है। आपको यह जानने की आवश्यकता हो सकती है कि स्टॉक की कीमत में बदलाव होने पर आप असल में कितने पैसे का प्रॉफिट या लॉस कमा सकते है। पोजीशन डेल्टा (Position Delta) आपको अंडरलाइंग स्टॉक में ₹१ परिवर्तन के सापेक्ष प्रॉफिट या लॉस की जानकारी देता है। और यह खासतौर पर डेल्टा ट्रेडिंग (Delta Trading) में इस्तेमाल किया जाता है।

पोजीशन डेल्टा (Position Delta) क्या है?

पोजीशन डेल्टा एक ऑप्शन की पोजीशन के अपेक्षित प्रॉफिट या लॉस का प्रतिनिधित्व करती है, जब स्टॉक की कीमत अधिक विशेष रूप से बदलती है और जब स्टॉक की कीमत एक रुपये से बदलती है। एक ऑप्शन पोजीशन पर विचार करें। मान लें कि हमारे पास एक कॉल ऑप्शन है जिसकी कीमत ₹१० है और कॉल का डेल्टा +०.७५ है और मान लें कि आप उन ऑप्शन में से दो को शॉर्ट करते हैं। अब पॉजिटिव ०.७५ के ऑप्शन डेल्टा के आधार पर आप जानते हैं कि स्टॉक की कीमत में एक रुपये की वृद्धि के लिए ऑप्शन का प्राइस ०.७५ से बढ़ने और स्टॉक की कीमत में एक रुपये की कमी के लिए ०.७५ की कमी की उम्मीद है। लेकिन यह आपको यह नहीं बताता कि आप उन स्टॉक कीमतों के आधार पर कितना पैसा बनाने या खोने जा रहे हैं। तो यह पता लगाने के लिए हमें डेल्टा की पोजीशन को देखना होगा।

पोजीशन डेल्टा (Position Delta) की गणना करना


१०० के कॉन्ट्रैक्ट मल्टीप्लायर के साथ इक्विटी ऑप्शन के लिए पोजीशन डेल्टा (Position Delta) की गणना करने के लिए आप निचे दिए फार्मूला का उपयोग कर सकते हैं,

पोजीशन डेल्टा = ऑप्शन डेल्टा x ट्रेड किए गए कॉन्ट्रैक्ट्स की संख्या x १००

यहां, १०० इक्विटी ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट मल्टीप्लायर है।

आइए कुछ उदाहरण देखें। मान लें कि हमारे पास ०.७५ के डेल्टा के साथ एक कॉल ऑप्शन है और हम उनमें से दो कॉन्ट्रैक्ट्स को शॉर्ट करते हैं। तो हमारे कॉन्ट्रैक्ट्स की संख्या - २ हो जाएगी। अब उपरोक्त सूत्र के आधार पर हमारी पोजीशन डेल्टा -१५० [पोजीशन डेल्टा = ०.७५ x (-२) = (-१५०)] होने जा रही है। अब इसका मतलब है कि स्टॉक की कीमत में ₹१ की वृद्धि के लिए हमें १५० रुपये का नुकसान होने की उम्मीद है और स्टॉक की कीमत में ₹१ की कमी के लिए हमें १५० रुपये का लाभ होने की उम्मीद है।

अब ऐसा इसलिए है क्योंकि हमने एक पॉजिटिव डेल्टा कॉन्ट्रैक्ट बेचा है। जब आप कुछ बेचते हैं तो आप चाहते हैं कि इसकी कीमत कम हो, जब इसकी कीमत बढ़ती है तो आप पैसे खो देते हैं और चूंकि कॉल ऑप्शन प्राइस में बढ़ जाता है जब स्टॉक की कीमत बढ़ती है और जब कॉल ऑप्शन बढ़ता है तो हमें पैसे खोने की उम्मीद होती है। इस तरह से पोजीशन डेल्टा (Position Delta) हमें बताती है कि स्टॉक की कीमत में उतार-चढ़ाव के कारण हमें कितना लाभ या हानि होती है।

यदि आप कॉन्ट्रैक्ट्स को शॉर्ट कर रहे हैं तो दो बातों को ध्यान में रखना चाहिए पहला यह है कि कारोबार किए गए कॉन्ट्रैक्ट्स की संख्या निगेटिव है और दूसरी बात यह है कि यदि आप १०० के मल्टीप्लायर के साथ इक्विटी ऑप्शन का व्यापार नहीं कर रहे हैं तो आपको आपके द्वारा ट्रेड किए जा रहे ऑप्शन का उपयुक्त मल्टीप्लायर चुनने की आवश्यकता है। उदाहरण के लिए, यदि आप S&P ५०० फ्यूचर्स ऑप्शंस में ट्रेड कर रहे हैं, तो कॉन्ट्रैक्ट मल्टीप्लायर ५० होगा।

पोजीशन डेल्टा के साथ ऑप्शन डेल्टा ट्रेडिंग स्ट्रेटेजीज (Delta Trading Strategy)

आप पोजीशन डेल्टा के अनुसार हेजिंग के लिए निम्नलिखित स्ट्रेटेजीज पर विचार कर सकते हैं,

जब पोजीशन डेल्टा पॉजिटिव हो, तो इन डेल्टा ट्रेडिंग स्ट्रेटेजीज (Delta Trading Strategy) के साथ हेजिंग करें: -

  1. लॉन्ग स्टॉक लॉन्ग कॉल्स

  2. शॉर्ट पुट

  3. लॉन्ग कॉल स्प्रेड

  4. शॉर्ट पुट स्प्रेड

जब पोजीशन डेल्टा निगेटिव हो, तो इन डेल्टा ट्रेडिंग स्ट्रेटेजीज (Delta Trading Strategy) के साथ हेजिंग करें: -

  1. शॉर्ट स्टॉक हेजिंग

  2. लॉन्ग पुट

  3. शॉर्ट कॉल

  4. शॉर्ट कॉल स्प्रेड

  5. लॉन्ग पुट स्प्रेड

इन डेल्टा ट्रेडिंग स्ट्रेटेजीज (Delta Trading Strategy) को विस्तार से जानने के लिए आप हमारे डेल्टा हेजिंग स्ट्रेटेजीज ब्लॉग को पढ़ सकते हैं ।


निष्कर्ष

जब अंडरलाइंग स्टॉक ₹१ से बढ़ता है या कम होता है, तो पोजीशन डेल्टा (Position Delta) आपको उस बदलाव के कारण कितनाअपेक्षित लाभ या हानि होगी यह बताता हैं। डायरेक्शनल रिस्क को मापने के लिए ट्रेडर पोजीशन डेल्टा का उपयोग कर सकते हैं। पोजीशन डेल्टा पॉजिटिव या निगेटिव के प्राइस के अनुसार आप विशिष्ट ऑप्शन ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी और डेल्टा ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी (Delta Trading Strategy) चुन सकते हैं।

281 views0 comments

Recent Posts

See All