google-site-verification=dCpXFYL0M_Z835WKryUkqtFobns-FEoO78FXyXmp1Pk google-site-verification=dCpXFYL0M_Z835WKryUkqtFobns-FEoO78FXyXmp1Pk
 

वित्तीय सफलता के लिए चाणक्य के गुप्त पाठ जो हर शेयर मार्केट व्यापारी को पता होने चाहिए ।


वित्तीय सफलता के लिए चाणक्य के गुप्त पाठ जो हर शेयर मार्केट व्यापारी को पता होने चाहिए ।

चाणक्य को भारत में राजनीति विज्ञान और अर्थशास्त्र के क्षेत्र का अग्रणी माना जाता है, और उनके काम ने अर्थशास्त्र के लिए एक मजबूत नींव स्थापित की है। वह अर्थशास्त्र और वित्त के एक महान दूरदर्शी थे। उस युग से उनका हर सबक आज की सदी के लिए सौ प्रतिशत मददगार और सटीक साबित हुआ है। चाणक्य ने पहले मौर्य सम्राट चंद्रगुप्त की सत्ता की वृद्धि में सहायता की। मौर्य साम्राज्य की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए उन्हें व्यापक रूप से श्रेय दिया जाता है। चाणक्य जैसे महान अर्थशास्त्री ने आर्थिक संसाधनों और उनके प्रबंधन पर विस्तृत मार्गदर्शन प्रदान किया है। अर्थशास्त्र, नितीशस्त्र और चाणक्य नीति जैसे महान ग्रंथ लिखकर वह ज्ञान की एक महान छवी बन गए । हमने चाणक्य द्वारा कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण वित्तीय पाठों को छाँटा और चुना है जो आपके लिए शेयर बाजार में सफल होने में बहुत मददगार होंगे। समृद्धि के लिए चाणक्य नीति में से कुछ वित्तीय सलाहें निचे दी गयी हैं जिन्हें आपको व्यापार और अपने वित्त से निपटने के दौरान ध्यान में रखना चाहिए।


शेयर बाजार के लिए चाणक्य नीति

नीति १: अपनी व्यक्तिगत संसाधन योजना बनाएं

नीति २: अपने जोखिम को समझें

नीति ३: विशेषज्ञों की मदद लें

नीति ४: अपने लिए नियम निर्धारित करें और नियमों के अनुसार कार्य निष्पादित करें

नीति ५: खराब कॉरपोरेट गवर्नेंस वाली कंपनियों में कभी निवेश न करें

नीति ६: स्थायी मूल्य वाले व्यवसायों में निवेश करें

नीति ७: नियमित रूप से निगरानी करें और गलतियों को जल्द से जल्द सुधारें

नीति ८: अपने उद्देश्य के लिए निवेश करें

नीति ९: नियमित रूप से निवेश करें

नीति १०: धन सृजन के लिए निवेश करें


नीति १ : अपनी व्यक्तिगत संसाधन योजना बनाएं।

पर्याप्त योजना के बाद ही काम शुरू करना चाहिए। एक सुनियोजित कार्य अच्छे परिणाम देता है, भले ही भाग्य विपक्ष में हो। योजना उस प्रकाश की तरह है जो अंधेरे में रास्ता दिखाती है।भले ही आपने बीच में अपना रास्ता खो दिया हो, आपकी सटीक योजना आपको पटरी पर वापस आने में मदद करती है। जो लोग ध्यान से जांच कर और अच्छी योजना बनाकर कार्य को लागू करते हैं, उन्हें सफलता मिलती है। उचित योजना के बिना लक्ष्य केवल सपने होते हैं, वे कभी भी वास्तविकता नहीं बनते हैं।


नीति २ : अपने जोखिम को समझें।

कोई भी काम शुरू करने से पहले अपनी क्षमता को तौलना चाहिए और उसके अनुसार ही आगे कदम उठाने चाहिए। अपनी आर्थिक क्षमता के अनुसार आभूषण धारण करना चाहिए। इसे ध्यान में रखते हुए आपको सावधानी से और सीमा में व्यापार करना चाहिए। उतनी राशि का व्यापार करने की हिम्मत न करें जिसे आप खोने का जोखिम नहीं उठा सकते। हमेशा सोच समज़कर ही जोखिम ही लें।


नीति ३ : विशेषज्ञों की मदद लें।

एक अच्छे विचार और दृढ़ संकल्प के बाद ही काम शुरू करना चाहिए। अगर आप देवी लक्ष्मी को प्रसन्न करना चाहते है तो, सभी पहलुओं को ध्यान में रखे बिना किसी कार्य को शुरू न करे । एक कहावत है कि जीवन की शिक्षा कभी खतम नहीं होती, हम जीवन भर सीखते हैं। कभी भी अपने आप को ऐसा मत समझो कि आप सब कुछ जानते हो। बहुत से लोगों को इतना अनुभव होने के बावजूद सही ज्ञान नहीं होता क्योंकि उन्हें समय पर सही मार्गदर्शन नहीं मिलता है। इसलिए सही समय पर सही मार्गदर्शन मिलना बहुत जरूरी है। इसलिए विशेषज्ञों की मदद लेने में कभी भी संकोच न करें।


नीति ४ : अपने लिए नियम निर्धारित करें और नियमों के अनुसार कार्य निष्पादित करें।

सबूत के बिना, कुछ भी मान्य नहीं किया जा सकता है। आत्म-अनुशासन ही सफलता का असली 'रहस्य' है। निरंतर आत्म-अनुशासन और आत्म-संयम से आप बड़ी सफलता प्राप्त कर सकते हैं।


नीति ५ : खराब कॉरपोरेट गवर्नेंस वाली कंपनियों में कभी निवेश न करें।

जो दूसरों के विश्वास और धन की रक्षा नहीं कर सकता, वह हमेशा अपने स्वयं के लाभ के बारे में सोचता रहेगा। अगर आप ज्ञानी है तो दौलत सिर्फ काबिल को दें, दूसरों को कभी नहीं। सूर्य द्वारा शुद्ध किया गया समुद्र का पानी खारा होता है और बादलों में संग्रहीत हमेशा मीठा हो जाता है। वर्षा जल पृथ्वी पर सभी जीवित प्राणियों (चल और अचल दोनों) को जीवंत करता है और समुद्र में लौट आता है। इसका मतलब है कि योग्य लोगों को दिया गया धन हमेशा विभिन्न तरीकों से लौटता है। इसलिए किसी भी स्टॉक में निवेश करने से पहले उचित शोध और विश्लेषण करें।


नीति ६ : स्थायी मूल्य वाले व्यवसायों में निवेश करें।

पहले अपनी सुरक्षा के बारे में सोचना चाहिए और इसलिए बैलगाड़ी से पाँच हाथ, घोड़े से दस हाथ और हाथी से सौ हाथ की दूरी बनाए रखनी चाहिए, लेकिन दुष्ट व्यक्ति से छुटकारा पाने के लिए उस स्थान या देश को भी छोड़ देना चाहिए। जब कई विकल्प हों, तो उस कार्य का चयन करना चाहिए जिसका स्थायी मूल्य हो। बड़ा नाम, सद्भावना और प्रसिद्धि की संरचना कभी नष्ट नहीं होती। अर्थव्यवस्था प्राकृतिक संपदा से समृद्ध होती है।


नीति ७ : नियमित रूप से निगरानी करें और गलतियों को जल्द से जल्द सुधारें।

गलतियाँ आपको पहले की तुलना में कुछ बेहतर बनाने की शक्ति रखती हैं, लेकिन केवल तभी जब आप गलतियों से सीखें और भविष्य में इसे न दोहराएं। किसी कार्य को करते समय सभी को अपनी गलतियों को सुधारना चाहिए। दंड देने की शक्ति से धन में वृद्धि होती है। इसलिए अपनी ग़लतीया समय पर पहचाने और उन्हें ठीक करे।


नीति ८ : अपने उद्देश्य के लिए निवेश करें।

हमेशा याद रखें आपका केंद्रित ध्यान और संयम ही आपकी वास्तविकता को निर्धारित करता है। इसलिए चाणक्य ने संदेश दिया है कि बुद्धिमान व्यक्ति को अपनी इंद्रियों पर संयम रखना चाहिए और अपने उद्देश्य को पूरी तरह से पूरा करना चाहिए। सारस की तरह लक्ष्य पर ध्यान को एकाग्र करना चाहिए। एक बेहतरीन चीज जो हम शेर से सीख सकते हैं वो यह है की , जो कुछ भी हासिल करना चाहते है उसके लिए पुरे दिल से ध्यान केंद्रित करके और पूरा जोर लगाके उसे हासिल करने के लिए प्रयास करना। एक चाणक्य निति में बताया है की "जो दूध प्राप्त करना चाहता है, वह हाथी नहीं खरीदेगा"। उसी प्रकार आपको जो चाहिए उसी के हिसाब से उपलब्ध विकल्प चुने न की वो विकल्प चुने जो सिर्फ दिखने में बड़ा हो लेकिन कोई काम का नहीं हो। साहसी होना मूर्खों का स्वभाव है।


नीति ९ : नियमित रूप से निवेश करें।

उपयोगी वस्तुओं का संग्रह ऐसे करते रहना चाहिए जैसे की हम अमर है। लंबे समय में,आपकी भविष्य की समृद्धि को निर्धारित सिर्फ यह नहीं करेगा की आप कितना पैसा कमाते हैं बल्कि यह निर्धारित करेगा की उस पैसे का कितना हिस्सा आप सहेजकर और निवेश करके काम में लाते हैं। निवेश इतना कठिन नहीं है। यह तो एक साधारण चीज है जो आपको नियमित रूप से करनी है ।


नीति १० : धन सृजन के लिए निवेश करें।

"मनुष्य की समृद्धि या विनाश उसके नियंत्रण में है।"

संचित धन को व्यापार या दान में अच्छी तरह खर्च करके या लाभप्रद रूप से निवेश करके बचाया जाता है, जैसे जलाशय के स्थिर पानी को बाहर निकालकर ताजा रखा जाता है। "उत्कृष्ट गुण व्यक्तिगत उपस्थिति के लिए आभूषण हैं, पारिवारिक परंपराओं के लिए धार्मिक और नैतिक आचरण है, सीखने के लिए सफलता और प्रदर्शन है, और धन का बुद्धि से किया उपयोग है "। हमें धार्मिक कार्य करना चाहिए, धन और अनाज को अर्जित करना और बचाना चाहिए, अपने आध्यात्मिक गुरु के शब्दों का पालन करना चाहिए, और दवाओं को अच्छी तरह से रखना चाहिए अन्यथा एक अच्छा और स्वस्थ जीवन जीना मुश्किल है।


हमे आशा है की आप ऊपर ऊपर बताई गयी चाणक्य निति का उपयोग अपने ट्रेडिंग के लिए जरूर करेंगे और सफलता प्राप्त करेंगे। एक बार जब आप किसी चीज़ पर काम करना शुरू कर देते हैं तो उसे छोड़ना नहीं चाहिए। लगन और ईमानदारी से काम करते हैं वे सबसे ज्यादा खुश होते हैं। इसलिए शेयर मार्केट में व्यापर करते समय संयम रखे, थोडेसे नुकसान से डर न जाये और विशेषज्ञों से आवश्यक ज्ञान और सलाह प्राप्त करके ट्रेडिंग करते रहे।


279 views0 comments

Recent Posts

See All