google-site-verification=dCpXFYL0M_Z835WKryUkqtFobns-FEoO78FXyXmp1Pk google-site-verification=dCpXFYL0M_Z835WKryUkqtFobns-FEoO78FXyXmp1Pk
 

इंट्राडे ट्रेडिंग (Intraday Trading) के लिए सर्वश्रेष्ठ इंडिकेटर्स



शेयर बाजार (Share Market) वह जगह है जहां एक सेकंड के भीतर हजारों लेनदेन और व्यापार होते हैं। शेयर बाजार अत्यधिक अस्थिर (Volatile) है और कोई भी १०० % भविष्यवाणी नहीं कर सकता कि बाजार की अगली चाल क्या होगी। करंट अफेयर्स, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय घटनाएं भी बाजार की स्थिति को बहुत अधिक प्रभावित करती हैं। इसलिए, शेयर बाजार के व्यापारी लगातार अलग-अलग चार्ट, पैटर्न और संकेतकों (Indicators) का विश्लेषण करते रहते हैं और उसी के आधार पर व्यापारिक निर्णय लेते हैं। शेयर बाजार संकेतक (Share Market Indicators) बाजार विश्लेषण (Market Analysis) में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। व्यापारी चाहे नया हो या अनुभवी, उन्हें संकेतकों (Share Market Indicators) का उपयोग करना चाहिए क्योंकि यह उनके लिए बाजार विश्लेषण में मुख्य उपकरण है। इस ब्लॉग में, हमने सात तकनीकी संकेतकों (Technical Indicators) पर चर्चा की है जो इंट्राडे ट्रेडिंग (Intraday Indicators) के लिए सबसे अच्छे संकेतक हैं। उन सभी का उपयोग करना आवश्यक नहीं है, बल्कि कुछ ऐसे संकेतक चुनें जो बेहतर व्यापारिक निर्णय लेने के लिए उपयुक्त हों। इस ब्लॉग में हमने प्रत्येक इंट्राडे इंडिकेटर (Intraday Indicators) पर विस्तार से चर्चा की है और प्रत्येक इंडिकेटर के उपयोग का भी उल्लेख किया है। यह ब्लॉग आपको यह तय करने में मदद करेगा कि कौन से संकेतक (Indicator) का उपयोग करना है और कौनसे नहीं।

इस ब्लॉग में आप पढ़ेंगे,

  • शेयर बाजार संकेतक क्या है? (What is share market indicator?)

  • इंट्राडे संकेतकों का महत्व (Importance of Intraday Indicators)

  • इंट्राडे संकेतकों का वर्गीकरण (Classification of Intraday Indicators)

  • व्यापार के उपकरण (Tools of the trade)

  • इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए सर्वश्रेष्ठ संकेतक (Best Indicators for Intraday Trading)


शेयर बाजार संकेतक (Share Market Indicator) क्या है?

एक गणना उपकरण (Calculation Tool) जिसका उपयोग व्यापारियों द्वारा शेयर बाजार की गतिविधियों की भविष्यवाणी करने के लिए, वित्तीय डेटा (Financial Data) का विश्लेषण करने के लिए किया जाता है उसे शेयर बाजार संकेतक (Share Market Indicator) कहते है। ऐसे हजारों तकनीकी संकेतक (Technical Indicators) उपलब्ध हैं और शेयर बाजार संकेतक (Share market Indicator) इन संकेतकों का सबसेट हैं।


इंट्राडे संकेतकों का महत्व (Importance of Intraday Indicator)

इंट्राडे संकेतक (Intraday Indicators) चार्ट पर ओवरले करते हैं जो गणितीय गणनाओं के माध्यम से महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं।


जैसा कि नाम से पता चलता है, शेयर बाजार संकेतक (Share Market Indicator) मूल्य के भविष्य के उतार चढ़ावो को इंगित (Indicate) करते हैं और इस तरह व्यापारियों को भविष्य की चाल और रणनीतियों (Startegies) की भविष्यवाणी करने में मदद करते हैं। इंट्राडे इंडिकेटरों (Intraday Indicators) पर नज़र रखना इंट्राडे ट्रेडर्स (Intraday Traders) के लिए बहुत जरूरी है।


इंट्राडे संकेतक (Intraday Indicators) बाजार के रुझानों (Trends) के बारे में उपयोगी जानकारी दिखाते हैं और व्यापारियों को उनके रिटर्न को अधिकतम करने में मदद करते हैं।


संकेतक प्रतिभूतियों (Securities) और बाजार मनोविज्ञान (Market Psycology) की आपूर्ति और मांग की भविष्यवाणी करने में मदद करते हैं। शेयर बाजार संकेतक तकनीकी विश्लेषण (Technical Analysis) का आधार बनते हैं।


मेट्रिक्स इस बात का सुराग देते हैं कि कीमत में उतार-चढ़ाव जारी रहेगा या नहीं। इस तरह से खरीदने और बेचने के संकेत संकेतकों द्वारा उत्पन्न होते हैं जो व्यापारियों (Traders) को उनके व्यापार में मदद करते हैं।

इंट्राडे संकेतकों (Share Market Indicators) का वर्गीकरण

ट्रेंड इंडिकेटर (Trend Indicator)

यह संकेतक बाजार की वर्तमान प्रवृत्ति या उस दिशा को इंगित करता है जिसमें बाजार आगे बढ़ रहा है। ट्रेंड संकेतक कुछ और नहीं बल्कि दोलक (Oscillators) हैं जो उच्च और निम्न मूल्यों के बीच चलते हैं।

मोमेंटम इंडिकेटर (Momentum Indicator)

मोमेंटम इंडिकेटर्स (Momentum Indicators) संकेत करते हैं कि ट्रेंड कितना मजबूत है और यह भी दिखाते हैं कि ट्रेंड रिवर्सल (Trend Reversal) की संभावना है या नहीं। ऐसा ही एक संकेतक है रिलेटिव स्ट्रेंथ इंडेक्स (RSI-Relative Strength Indicator), जिसका उपयोग कीमत के ऊपर और नीचे होने को इंगित करने के लिए किया जाता है।

वॉल्यूम इंडिकेटर (Volume Indicator)

वॉल्यूम संकेतक (Volume Indicator) इंगित करते हैं कि समय के साथ वॉल्यूम कैसे बदलता है। वॉल्यूम संकेतक समय के साथ खरीदे और बेचे जाने वाले शेयरों की संख्या के बारे में डेटा देते हैं। वॉल्यूम इंगित करता है कि मूल्य परिवर्तन पर चाल कितनी मजबूत है। ‘ऑन-बैलेंस वॉल्यूम’ (On Balance Volume) वॉल्यूम संकेतकों में से एक है।

वोलैटिलिटी इंडिकेटर (Volatility Indicator)

वोलैटिलिटी (Volatility) दी गई अवधि में मूल्य परिवर्तन को इंगित करती है। उच्च वोलैटिलिटी बड़े मूल्य चालों को इंगित करती है, जबकि कम वोलैटिलिटी समय की अवधि में छोटी कीमतों की चाल को इंगित करती है।

व्यापार के उपकरण (Tools of Trade)

‘चार्टिंग उपकरण’ (Chartin Tools) व्यापार के उपकरण हैं जो खरीदने या बेचने के लिए संकेत उत्पन्न करते हैं। बाजार के रुझान और पैटर्न (Trend and Pattern) इन उपकरणों द्वारा इंगित किए जाते हैं। आम तौर पर, दो बुनियादी प्रकार के तकनीकी संकेतक होते हैं:


ओवरले (Overlay):

ये तकनीकी संकेतक स्टॉक चार्ट पर कीमतों के ऊपर कीमतों को प्लॉट करते हैं। मूविंग एवरेज और बोलिंगर बैंड (Bollinger Bands) या फिबोनास्की लाइन (Fibonacci lines) ओवरले के उदाहरण हैं।


ऑसिलेटर्स (Oscillator):

ये तकनीकी संकेतक (Technical Indicator) स्थानीय न्यूनतम और अधिकतम के बीच दोलन (Oscillate) करते हैं और मूल्य चार्ट पर ओवरले होने के बजाय मूल्य चार्ट के ऊपर या नीचे प्लॉट किए जाते हैं। स्टोकेस्टिक ऑसिलेटर (Stochastic Oscillator), एमएसीडी (MACD) या आरएसआई (RSI) ऑसिलेटर्स के उदाहरण हैं।

सर्वश्रेष्ठ इंट्राडे संकेतक (Best Intraday Indicators)

कई बार, प्रतिभूति (Security) का विश्लेषण करते समय ट्रेडर कई अलग-अलग तकनीकी संकेतकों (Technical Indicators) का साथ में उपयोग करते हैं। हजारों संकेतक उपलब्ध हैं लेकिन व्यापारियों को उन संकेतकों का चयन करना चाहिए जो उनके लिए सबसे अच्छा काम करते हैं और उन्हें पता होना चाहिए कि ये संकेतक कैसे काम करते हैं। अच्छे और रणनीतिक निर्णय लेने के लिए व्यापारी अक्सर तकनीकी संकेतकों (Technical Indictors) को तकनीकी विश्लेषण (Technical Analysis) के अधिक व्यक्तिपरक रूपों के साथ जोड़ते हैं, जैसे कि चार्ट, पैटर्न आदि का विश्लेषण करना। मात्रात्मक प्रकृति देने पर, तकनीकी संकेतकों को स्वचालित ट्रेडिंग सिस्टम (Automated Trading Systems) में भी शामिल किया जा सकता है। आइए इन संकेतकों को एक-एक करके देखें।

ऑन-बैलेंस-वॉल्यूम (On Balance Volume)

समय के साथ प्रतिभूति (Security) के सकारात्मक और नकारात्मक प्रवाह को मापने के लिए ऑन-बैलेंस-वॉल्यूम (OBV) संकेतक का उपयोग किया जाता है। यह इंडिकेटर अप वॉल्यूम (Up Volume) और नकारात्मक डाउन वॉल्यूम (Down Volume) की रनिंग टोटल को दर्शाता है। ऊपर की मात्रा उस दिन की मात्रा है जब कीमत बढ़ती है और नीचे की मात्रा उस दिन की मात्रा होती है जब कीमत गिरती है।


उच्च और निम्न मूल्य चालों के आधार पर, प्रत्येक दिन की मात्रा को संकेतक से जोड़ा या घटाया जाता है।

ऑन-बैलेंस-वॉल्यूम (On -Balance-Volume) की बढ़ती कीमत यह दर्षाती है की अब खरीददार आ सकते है और कीमते बढ़ सकती है। गिरती ऑन-बैलेंस-वॉल्यूम बढ़ती बिक्री मात्रा को इंगित करती है जो कम कीमतों का संकेत देती है। इस तरह ऑन-बैलेंस-वॉल्यूम (On-Balance-Volume) एक ट्रेंड कन्फर्मेशन टूल (Trend Confirmation Tool) की तरह काम करता है। बढ़ती ओबीवी और बढ़ती कीमत ट्रेंड के जारी रहने का संकेत देती है।


जब संकेतक और कीमत अलग-अलग दिशाओं में जा रहे हैं, तो ओबीवी का उपयोग करने वाले व्यापारी भी विचलन (Divergence) के लिए देखते हैं। बढ़ती कीमतों और गिरते ओबीवी का संकेत हो सकता है कि ट्रेंड मजबूत खरीदारों द्वारा समर्थित नहीं है और जल्द ही उलट सकता है।

एक्युम्युलेशन /डिस्ट्रीब्यूशन लाइन (Accumulation/Distribution Line)

यह प्रतिभूति (Security) के धन के भीतर (Money In) और धन के बहिर्वाह (Outflow) का निर्धारण करने के लिए सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले संकेतकों में से एक है। ऑन-बैलेंस वॉल्यूम इंडिकेटर (OBV- On-Balance-Indicator) जैसे केवल सिक्योरिटी के क्लोजिंग प्राइस पर विचार करने के बजाय, एक्यूमुलेशन/डिस्ट्रीब्यूशन लाइन (A/D Line) उस अवधि के लिए ट्रेडिंग रेंज को भी ध्यान में रखती है जहां क्लोज है और उस रेंज से संबंधित होती है। यदि कोई स्टॉक अपने उच्च के करीब बंद हो जाता है, तो संकेतक वॉल्यूम को मध्य सीमा के पास बंद हो रहे वॉल्यूम से अधिक भार देता है।


हालांकि ओबीवी (OBV) और ए/डी (A/D) कुछ बेहतरीन संकेतक हैं, लेकिन यह जरूरी नहीं है कि दोनों संकेतक हर स्थिति में बेहतर काम करेंगे। बल्कि, एक स्थिति में एक बेहतर प्रदर्शन करता है और दूसरे स्थिति के लिए दूसरा बेहतर हो सकता है।


यदि A/D संकेतक (A/D Indicator) लाइन ऊपर की ओर चल रही है, तो यह खरीदारी में दिलचस्पी दिखाती है, क्योंकि स्टॉक सीमा के आधे बिंदु से ऊपर बंद हो रहा है। यह एक अपट्रेंड (Uptrend) की पुष्टि करने में मदद करता है। दूसरी ओर, ए / डी लाइन (A/D Line) गिरने से संकेत मिलता है कि कीमत अपनी दैनिक सीमा के निचले हिस्से में खत्म हो रही है, और इस प्रकार वॉल्यूम को नकारात्मक माना जाता है। यह एक डाउनट्रेंड (Downtrend) की पुष्टि करने में मदद करता है।


व्यापारी ए/डी लाइन (A/D Line) का उपयोग करते समय विचलन (Divergence) पर भी नजर रखते हैं।

गिरती ए/डी लाइन (A/D Line) और बढ़ती कीमत संकेत है कि ट्रेंड संकट में है और उलट सकता है। उसी तरह, कम कीमतें और बढ़ती ए/डी (A/D Line) आने वाली ऊंची कीमतों का संकेत देती हैं।

औसत दिशात्मक सूचकांक (Average Directional Index)

यह ट्रेंड इंडिकेटर (Trend Indicator) है और इसका उपयोग किसी ट्रेंड की ताकत और गति को मापने के लिए किया जाता है। ४० से ऊपर एडीएक्स (ADX) संकेतक इंगित करता है कि ट्रेंड में बहुत अधिक दिशात्मक ताकत (Directional Strength) है, या तो ऊपर या नीचे। जब ADX इंडिकेटर २० से नीचे होता है, तो ट्रेंड को कमजोर या नॉन-ट्रेंडिंग माना जाता है। संकेतक पर, एडीएक्स मुख्य रेखा है जो आम तौर पर काले रंग की होती है। दो अतिरिक्त लाइनें हैं जिन्हें वैकल्पिक रूप से दिखाया जा सकता है जो DI+ और DI- हैं। ट्रेंड की दिशा के साथ-साथ ट्रेंड की गति को दिखाने के लिए तीनों लाइनें एक साथ काम करती हैं।

  • २० से ऊपर ADX और DI- से ऊपर DI+ अपट्रेंड (Uptrend) को दर्शाता है।

  • ADX 20 से ऊपर और DI- का DI+ से ऊपर होना डाउनट्रेंड को दर्शाता है।

  • ADX 20 से नीचे हो जाये और DI- और DI+ तेजी से ADX को पार करें तो ऐसी परिस्थिति कमजोर ट्रेंड को दर्शाती है।

अरुण संकेतक (Aroon Indicator)

यदि मूल्य गणना अवधि (Calculation Period) (आमतौर पर २५) के दौरान नए उच्च या निम्न स्तर पर पहुंच रहा है, तो अरुण संकेतक (Aroon Indicator) मापता है कि प्रतिभूति (Security) ट्रेंड में है या नहीं। यह संकेतक तब पहचानता है जब कोई नया चलन शुरू होने वाला हो। अरुण संकेतक (Aroon Indicator) में दो रेखाएँ होती हैं: १. अरुण-उप लाइन (Aroon Up Line) और २. अरूण डाउन लाइन (Aroon Down Line)। जब अरून-अप ऊपर जाता है और अरुण-डाउन लाइन को पार करता है, तो यह संभावित, ट्रेंड में परिवर्तन का पहला संकेत है। जब अरून-अप लाइन (Aroon Up Line) १०० तक पहुंचती है और लगभग उस स्तर तक रहती है और अरुण-डाउन लाइन (Aroon Down Line) शून्य के करीब रहती है, तो यह एक अपट्रेंड (Uptrend) और इसके विपरीत की सकारात्मक पुष्टि है। यदि अरून-डाउन लाइन आरून-अप को पार करती है और ऊपर जाती है और १०० के करीब रहती है, तो यह इंगित करता है कि डाउनट्रेंड लागू है।

मूविंग एवरेज कन्वर्जेंस डिवर्जेंस (Moving Average Convergence) इंडिकेटर

यह संकेतक व्यापारियों को ट्रेंड की दिशा, साथ ही उस ट्रेंड की गति को देखने में मदद करता है। व्यापार संकेतों की संख्या भी इस सूचक द्वारा प्रदान की जाती है।

  • जब एमएसीडी (MACD) शून्य से ऊपर होता है तब कीमत ऊपर की ओर होती है।

  • जब एमएसीडी (MACD) शून्य से नीचे है तो यह एक मंदी की अवधि दर्शाता है।

इस सूचक में दो लाइनें शामिल हैं जिसमे एक एमएसीडी लाइन (MACD Line) और एक सिग्नल लाइन (Signal Line) हैं।

  • जब एमएसीडी सिग्नल लाइन से नीचे चला जाता है तो गिरती कीमत का संकेत देता है।

  • जब एमएसीडी लाइन सिग्नल लाइन के ऊपर जाती है तो वह बढ़ती कीमत का संकेत देती है

इस रेखा की स्थिति पर निर्भर करता है कि यह शून्य से ऊपर या नीचे है या नहीं, यह संकेतक, किन संकेतों का पालन करना है यह निर्धारित करने में मदद करता है कि ।

सापेक्ष शक्ति सूचकांक (Relative Strength Index)

यह इंट्राडे इंडिकेटर (Intraday Indicator) शून्य और १०० के बीच चलता है और अभी के मूल्य नुकसान के खिलाफ अभी के मूल्य लाभ को प्लॉट करता है। इसलिए, आरएसआई (RSI) स्तर ट्रेंड की ताकत और गति की गणना करने में मदद करता है। यह सूचक मुख्य रूप से तीन चीजों को इंगित करने के लिए प्रयोग किया जाता है,

अधिक खरीदारी और अधिक बिक्री (Overbuying and Overselling):

यह आरएसआई संकेतक (RSI indicator) का मूल कार्य है। जब आरएसआई (RSI) ७० से ऊपर चला जाता है, तो परिसंपत्ति (Underlying) को अधिक खरीद लिया जाता है और इसकी कीमतों में गिरावट आ सकती है। जब आरएसआई (RSI) ३० से नीचे होता है, तो परिसंपत्ति ओवरसोल्ड हो जाती है और कीमते बढ़ सकती है। सुरक्षित पक्ष के लिए व्यापारी केवल आरएसआई के इन उतर चढ़ावों पर भरोसा नहीं करते हैं। बेचने से पहले, व्यापारी संकेतक के ७० से ऊपर उठने और फिर नीचे गिरने का इंतजार करते हैं। खरीदने से पहले, वे संकेतक के ३० से नीचे गिरने की प्रतीक्षा करते हैं और फिर खरीदने से पहले वापस ऊपर उठते हैं।

विचलन (Divergence):

यह आरएसआई (RSI) का एक और उपयोग है। मूल्य की तुलना में एक अलग दिशा में चलने वाला संकेतक दर्शाता है कि वर्तमान मूल्य का ट्रेंड कमजोर हो रहा है और जल्द ही उलट सकता है।

समर्थन और प्रतिरोध स्तर (Support and Resistance Levels):

अपट्रेंड (Uptrend) के दौरान, स्टॉक अक्सर ३० के स्तर से ऊपर रहता है और अक्सर ७० या उससे ऊपर तक पहुंच जाता है। डाउनट्रेंड (Downtrend) के दौरान, आरएसआई (RSI) आमतौर पर ७० से नीचे रहता है और अक्सर ३० या उससे नीचे तक पहुंच जाता है।


स्टोकेस्टिक ऑसिलेटर (Stochastic Oscillator)

यह इंट्राडे इंडिकेटर (Intraday Indicator) एक विशेष अवधि में मूल्य सीमा के सापेक्ष वर्तमान मूल्य को मापता है। यह ० और १०० के बीच प्लॉट किया गया है। एक अपट्रेंड के दौरान, कीमत को नई ऊंचाई बनानी चाहिए। डाउनट्रेंड (Downtrend) में, कीमत आम तौर पर नई चढ़ाव बनाती है। यह सब हो रहा है या नहीं यह स्टोकेस्टिक ऑसिलेटर (Stochastic Oscillator) ट्रैक करता है।


स्टोकेस्टिक ऑसिलेटर (Stochastic Oscillator) को अक्सर एक अधिक खरीददार और अधिक बिकने वाले संकेतक के रूप में प्रयोग किया जाता है क्योंकि यह अपेक्षाकृत तेज़ी से ऊपर और नीचे चलता है। यह संभव है क्योंकि स्टोकेस्टिक को १०० के पास बनाये रखना, या स्टोकेस्टिक को शून्य के पास नित्य कम रखना या फिर कीमत को निरंतर उच्च बनाए रखना दुर्लभ/मुश्किल है।

ऑसिलेटर का ८० से ऊपर स्तर अधिक खरीदी (Overbought) माना जाता है:

जब संकेतक ८० से ऊपर चला जाता है और फिर नीचे गिर जाता है तो यह एक व्यापार को कम करने का एक संभावित संकेत है।


ऑसिलेटर का २० से नीचे का स्तर ओवरसोल्ड (Oversold) माना जाता है:

जब संकेतक २० से नीचे चला जाता है और इसके ऊपर वापस बढ़ जाता है, तो यह एक संभावित खरीद संकेत है।

निष्कर्ष (Conclusion)

किसी दिए गए परिसंपत्ति (Underlying) की गति की दिशा जानना और उससे लाभ का प्रयास करना, शायद हर व्यापारी का लक्ष्य है। इस विशिष्ट उद्देश्य के लिए कई तकनीकी संकेतक (Technical Indicators) और ऑसिलेटर (Oscillator) विकसित किए गए हैं। हमने इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए कुछ बेहतरीन संकेतक (Best Indicators for Intraday Trading) इस ब्लॉग में देखे । नई रणनीतियों (Strategies) को विकसित करने के लिए इन संकेतकों का उपयोग करें या उन्हें अपनी वर्तमान रणनीतियों में शामिल करने पर विचार करें। इन संकेतकों का वास्तव में उपयोग करने से पहले डेमो अकाउंट में इन संकेतकों (Indicators) का उपयोग करने का अभ्यास करें और निर्धारित करें कि किन संकेतकों (Indicators) का उपयोग करना है। वह चुनें जो आपको सबसे अच्छा लगे और दूसरे को अनदेखा करें या आप इन संकेतकों (Indicators) का एक साथ भी उपयोग कर सकते हैं। तकनीकी संकेतक (Technical Indicators) इंट्राडे (Intraday) में होने वाले विश्लेषण का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। ट्रेंड फॉलोइंग (Trend following), मोमेंटम (Momemtum), वॉल्यूम (Volume) और वोलैटिलिटी इंडिकेटर्स (Volatility Indicator) का एक संयोजन इंट्राडे व्यापारियों (Intraday Traders) को अल्पकालिक मूल्य परिवर्तनों से लाभ में बढ़त हासिल करने की अनुमति देता है और व्यापारियों को बाजार की संभावित चाल का विश्लेषण और भविष्यवाणी करने में मदद करता है।


166 views0 comments

Recent Posts

See All